पटना: राजद के बंद के दौरान तेजस्वी यादव तथा तेज प्रताप यादव ने दी गिरफ्तारी

0
41

पटना 21 दिसंबर- राष्ट्रीय जनता दल के एक दिवसीय बिहार बंद के दौरान पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव समेत राजद के वरिष्ठ नेताओं ने गुरुवार को अपनी गिरफ्तारी दी। 

आधिकारिक सूत्रों ने यहां बताया कि दिन चढ़ने के बाद तेजस्वी यादव तथा तेज प्रताप यादव अपने अपने समर्थकों के साथ बंद कराने निकले । 

राष्ट्रीय जनता दल अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के सबसे बड़े पुत्र तथा बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव अपने समर्थकों के साथ ट्रैक्टर चलाते हुए राजधानी पटना के डाक बंगला चौराहा पहुंचे और सरकार की खनन और बालू नीति के खिलाफ नारेबाजी की। इसके बाद तेजस्वी यादव भी अपने समर्थकों के साथ बन्द में शामिल हुए। 

राजद के बन्द में पार्टी के बिहार प्रदेश के अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे ,पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह समेत कई बड़े नेता शामिल हुए। 

प्रशासन ने तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव, रघुवंश प्रसाद सिंह ,रामचंद्र पूर्वे समेत राष्ट्रीय जनता दल के सैंकड़ों कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया। 

अपनी गिरफ्तारी देने के बाद तेजस्वी यादव ने संवाददाताओं के साथ बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नई खनन नीति को गरीब विरोधी बताया। उन्होंने कहा कि इस नीति के कारण राज्य में बालू और गिट्टी का संकट उत्पन्न हो गया है जिससे गरीबों के घर में महीनों से चूल्हा नहीं जला है और वह यहां से पलायन करने के बाध्य हो गए हैं। 

उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को तानाशाह बताते हुए कहा कि कोर्ट के आदेश को भी नीतीश कुमार ने नहीं माना है। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के तानाशाही रवैया के खिलाफ अंतिम दम तक राजदआंदोलन करेगी । 

तेजस्वी यादव ने कहा कि मजदूरी करके इमानदारी से अपना पेट भरने वाले गरीब मजदूर भूखे मर रहे हैं और नीतीश कुमार तथा राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी को उनकी सुध लेने की भी फुर्सत नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि यह सरकार गरीबी नहीं बल्कि गरीबों को ही मिटा देना चाहती है। भूखे मर रहे गरीब इमानदार मजदूर के सामने रोजी रोटी की समस्या पैदा कर यह सरकार उन्हें गलत राह पर जाने को मजबूर कर रही है जिसके खिलाफ राजद का आंदोलन अंत तक जारी रहेगा। 

नई खनन नीति पर राज्य सरकार के यू-टर्न को एक दिखावा बताते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि 6 महीने से जो गरीब मजदूर भूखे मर रहे हैं उनसे नीतीश कुमार को माफी मांगनी चाहिए। 

आवश्यक सेवाओं को बंद से मुक्त रखने की पूर्व की घोषणा के बावजूद एंबुलेंस रोके जाने की घटना के बारे में तेजस्वी यादव ने कहा कि आज का यह बंद सिर्फ राष्ट्रीय जनता दल का नहीं बल्कि पूरे राज्य के गरीब मजदूरों का बंद है और रोज़ी-रोटी के अभाव में रोश में आए मजदूर संभवतः कहीं अपनी भावनाओं को काबू नहीं कर पाए होंगे। 

उन्होंने कहा कि राजद के बंद को सिख समुदाय से जोड़कर दुष्प्रचार किया जा रहा है जबकि इस बंद के जरिए राजद ने गरीब के लिए जीने वाले गुरु गोविंद सिंह की भावना को ही आगे बढ़ाया है। 

LEAVE A REPLY