कानपुर बेस्ड ‘हाफ मैरिज’ सीरियल की दिलचस्प बातें कलाकार ने की साझा

0
150

कानपुर, 21 सितम्बर । ऐसा माना जाता है कि शादी का पवित्र बंधन स्वर्ग में बनता है और हमें हमारा जीवनसाथी यहां धरती पर मिलता है। लेकिन क्या हो जब यह पवित्र रिश्ता राजनीतिक हित के लिये रचा जाये? क्या यह शादी जंग के रास्ते पर जायेगी या फिर उनके बीच प्यार की कोपलें फूटेंगी? ऐसी ही एक शादी पर एक नया दृष्टिकोण प्रस्तुत करने के लिए ‘हाफ मैरिज’ का प्रसारण शुरू करने के लिए तैयार है। 

यह शो अर्जुन (तरुण महिलानी) और चांदनी (प्रियंका पुरोहित) की जिंदगी के बारे में है। ‘हाफ मैरिज’ में राजनीतिक प्रभाव और सांस्कृतिक धारणाओं से जन्मे शादी के एक अनोखे बंधन को दिखाया जायेगा। कॉन्शयस ड्रीम्स की कविता बड़जात्या और कौशिक घटक द्वारा निर्मित एवं परिकल्पित, ‘हाफ मैरिज’ उस चर्चित कहावत, प्यार और जंग में सब जायज़ है, को नफरत और राजनीति में सब जायज के रूप में पुनः परिभाषित करता है। इस शो का प्रसारण 25 सितंबर 2017 से, प्रत्येक सोमवार से शुक्रवार शाम 7.30 बजे, केवल टीवी  पर शुरू हो रहा है। इस शो की कहानी और परिकल्पना के बारे में जानकारी देने के लिये प्रमुख कलाकार प्रियंका पुरोहित और तरूण महिलानी गुरूवार को कानपुर पहुंचे। 


सांस्कृतिक रूप से समृद्ध शहर कानपुर की पृष्ठभूमि पर बना ‘हाफ मैरिज’ एक-दूसरे से बिलकुल अलग स्वभाव वाले अर्जुन और चांदनी की उलझी हुई कहानी बयां की। अर्जुन मध्यमवर्गीय परिवार का लड़का है, जो कई बार अपनी ईमानदारी के कारण मुसीबत में फंस जाता है और चांदनी एक अमीर राजनेता के यहां जन्मी है, जिसके मन में अपने पिता वनराज कनौजिया (सत्यजीत शर्मा) के लिये बहुत प्यार और सम्मान है। राजनीतिक परिदृश्य में जो अन्याय चल रहा है उसके खिलाफ अर्जुन लड़ता है, वहीं चांदनी उन लोगों के खिलाफ लड़ रही है जो उसके पिता की छवि को खराब कर रहे हैं। 

जैसे-जैसे कहानी आगे बढ़ती है, इन दोनों के बीच बहुत नफरत पैदा हो जाती है और वनराज कनौनिया की राजनीतिक चाहत जबर्दस्ती की इस शादी को अंजाम देती है। अर्जुन और चांदनी के इस शादी में बने रहने की दुविधा के बाद क्या होता है, यह बात दर्शकों के देखने लायक होगी। उन्हें ये पता चलेगा कि, ये शादी जंग लायेगी या शादी रंग लायेगी।
‘हाफ मैरिज’ में कई जाने-माने कलाकार नजर आयेंगे। 

ये सभी सत्यजीत शर्मा, तरुण महिलानी और प्रियंका पुरोहित के साथ राजनीति और नफरत की इस कहानी में शामिल हो रहे हैं। इन कलाकारों में सुलक्षणा शर्मा (अर्जुन की मां) के रूप में कनपुरिया पंडित, जानकी (अर्जुन की मामी) के रूप में रेशम टिपनिस, सुरेंद्र मिश्रा (अर्जुन के मामा) के रूप में मुनी झा, सूर्यप्रकाश कनौजिया (चांदनी के भाई) के रूप में अवदीप सिंधु और साथ ही कई अन्य शामिल हैं

LEAVE A REPLY