कानपुर:नकली शराब कानपुर में चल रहा था कारोबार, आठ गिरफ्तार

0
541

-कल्याणपुर इलाके में स्थित एक मकान में चल रही थी नकली शराब फैक्ट्री
-पुलिस कार्रवाई के दौरान भारी मात्रा में केमिकल युक्त नकली शराब बरामद 
कानपुर, 31 मई । प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद से भले ही शराब दुकानों को लेकर महिलाओं का विरोध प्रदर्शन चरम पर है। बावजूद इसके शराब का अवैध कारोबार करने वालों पर खौफ नहीं दिख रहा है। एक बार फिर जनपद के कल्याणपुर इलाके में स्थित मकान में चल रही अवैध शराब फैक्ट्री का भंडाफोड़ हुआ है। पुलिस ने मौके से आठ लोगों को गिरफ्तार करते हुए नकली शराब बनाने के उपकरणों के साथ-साथ भारी मात्रा में तैयार नकली शराब बरामद की है। 

आवास विकास तीन के सेक्टर नंबर आठ में चार साल पूर्व सिन्हा कंट्रक्शन फर्म के मालिक अरविन्द यादव ने एक मकान तैयार कराया था। निर्माण कार्य पूरा होने के बाद उन्होंने परवेज खान को मकान बेच दिया। बुधवार की दोपहर गश्त के दौरान जेब्रा पुलिस को देख मकान की खिड़की से झांक रहे युवक अंदर भाग खड़े हुए। शक के आधार पर सिपाही ज्ञानेन्द्र व सुरेन्द्र शंकर ने आलाधिकारियों को मामले की जानकारी देते हुए मकान की निगरानी शुरू कर दी। इस बीच सीओ संजीव कुमार दीक्षित व इंस्पेक्टर राजवर्धन गौड़ फोर्स के साथ पहुंचे और शक के आधार पर मकान की घेराबंदी करते हुए छापा मारा। 

मौके से पुलिस ने अवैध शराब का जखीरा देख होश उड़ गये। पुलिस ने मौके से भाग रहे आठ लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गये सभी युवक 20 से 25 साल के नौजवान है। इससे पुलिस का शक है कि नशे के अवैध कारोबार में पैसों का लालच देकर शराब माफियाओं द्वारा धंधे में उतारा जा रहा है। मौके पर पहुंचे एसपी पश्चिम गौरव ग्रोवर ने बताया कि पुलिस ने रेड कर मौके से भारी मात्रा में नकली शराब व केमिकल रेड आक्साइड भरे ड्रम, पैकिंग कीट, मशीन, एक इंडिगो कार में नकली शराब, आबकारी की मोहरें आदि बरामद करते हुए अभियुक्तों से पूछतांछ कर मास्टर माइंड का पता लगाया जा रहा है। पकड़े गए अभियुक्तों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही की जा रही है। 

यह गये पकड़े 
छापेमारी के दौरान पुलिस ने मौके से आठ युवकों को पकड़ा है। इसके साथ ही दिबियापुर के कंचौसी निवासी दीपक यादव नाम के शख्स की इंडिगो कार भी नकली शराब के साथ मकान से बरामद की गई है। पकड़े गए सभी अभियुक्त दिबियापुर व आसपास के रहने वाले है। अभियुक्तों में रमेश, धर्मेन्द्र, सतीश कुमार, विवके, मलखान, शिवा यादव, ज्ञानेश व पुलिस को चकमा देकर भाग रहे मूलरूप से कानपुर देहात के रसूलाबाद हाल पता पनकी निवासी विवेक नाम के दूसरे युवक को भी गिरफ्तार किया गया है। 
बरामद नकली शराब
दो सौ लीटर के सात ड्रम, 40 लीटर के नौ ड्रम, 150 पेटी तैयार नकली माधुरी ब्रांड की शराब, 22 पेटी दबंग ब्रांड से तैयार नकली शराब, 55 बोलतें टाइगर ब्रांड की नकली शराब बरामद की गई है। 
आखिर कौन है मास्टर माइंड
कानपुर पुलिस के हाथ भले ही नकली शराब कारोबार से जुड़े आठ लोगों की गिरफ्तारी व बरामदगी के बाद बड़ी कामयाबी हाथ लगी हो। लेकिन सवाल यह है कि आखिरकार इस गोरखधंधे के पीछे कौन लोग छिपे बैठे हैं। बताते चलें कि बर्रा पुलिस ने कुछ समय पूर्व बिठूर के मंधना में एक बंद मसाला फैक्ट्री में छापेमारी कर नकली शराब बनाने का भंडाफोड़ किया था। उस वक्त भी पुलिस के हाथ मास्टर माइंड नहीं लगे थे। 

बिठूर में ही एक अगरबत्ती मालिक के फार्म हाउस में भी नकली शराब का कारोबार पकड़ा गया था। जनपद में नकली शराब का खेल बड़े पैमाने पर हो रहा है। पुलिस छोटी मछलियों पर तो कार्रवाई करती है, लेकिन उनके पीछे बैठे आकाओं पर शिकंजा न कसने से यह अवैध कारोबार कानपुर में फल-फूल रहा है और लगातार अपने पांव पसारते जा रहा है। हर बार कार्रवाई के बाद माफिया जगह बदलकर गोरखधंधा शुरू कर देते हैं

LEAVE A REPLY