कानपुर ;डिजिटल लेन-देन से खत्म होगा जाली नोटों का संकट : पंकज अरोड़ा

0
79

कानपुर, 13 जनवरी। केन्द्र सरकार टैक्स चोरी व रेजगारी की समस्या को देखते हुए लगातार डिजिटल लेन-देन के लिए प्रोत्साहित कर रही है। जिसके चलते देशभर में डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए व्यापारिक संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) भी आगे आ गया। कैट के कानपुर अध्यक्ष ने कहा जाली नोटों के संकट को खत्म करने के लिए डिजिटल लेन-देन बहुत जरूरी है।

व्यापारिक संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) लोगों में डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने के लिए कैट का डिजिटल रथ नई दिल्ली से कानपुर पहुंचा और संयुक्त अभियान में ‘कैशलेस इंडिया’ का आह्वान किया गया है। नवीन मार्केट में डिजिटल रथ को टीम कैट के कानपुर अध्यक्ष अशोक बाजपेयी ने शनिवार को हरी झंडी दिखाकर मुख्य बाजारों के लिए रवाना किया, जो नयागंज में समाप्त हुआ। 


व्यापारियों और ग्राहकों को कैशलेस को लेकर जागरूक किया गया। अपने संबोधन में बाजपेयी ने कहा कि केन्द्र सरकार का यह प्रयास है कि अधिक से अधिक लोग डिजिटल लेन-देन करें। जिससे टैक्स को लेकर पारदर्शिता आ जाये। कहा कि इससे सबसे बड़ा फायदा है कि लोगों को रेजगारी की समस्या से नहीं जूझना पड़ेगा। तो वहीं रास्ते में कैश लेकर चलने का खौफ भी नहीं होगा और चोर उचक्के भी स्वतः कमजोर हो जाएंगे। 

सुविधाजनक है डिजिटल पेमेंट
कैट के प्रदेश महामंत्री पंकज अरोड़ा ने बताया कि डिजिटल रथ ने व्यापारियों और ग्राहकों को बताया कि कार्ड से भुगतान करना अधिक सुविधाजनक और सुरक्षित है। बड़ी नगदी साथ लेकर चलने की जरूरत नहीं पड़ती। डिजिटल पेमेंट से घर बैठे रेजगारी की समस्या दूर होती है। लूटपाट और चोरी की समस्या दूर होती है। जाली नोटों का संकट खत्म होगा। उन्होंने कहा कि जब देश डिजिटल इंडिया की तरफ बढ़ रहा है तो ऐसे में डिजिटल पेमेंट का मुख्य केंद्र है ‘कैशलेस बनो इंडिया‘। इस दौरान धर्मेन्द्र गुप्ता, महेश वर्मा, विनय अरोड़ा, आलोक कौशिक, अजीत ओमर, अजय तिवारी, कमल वर्मा, रजत पांडेय, मुकुल वर्मा, दुर्गा केसरवानी, मोहित सविता, अंकुश यादव आदि मौजूद रहें।

LEAVE A REPLY