कानपुर :क्राइम मीटिंग में जा रही डीआईजी जाम में फंसी, सीओ को लगाई फटकार

0
734

कानपुर, 22 सितम्बर । शहर की यातायात व्यवस्था इस कदर चौपट है कि आए दिन एंबुलेंस व पुलिस की गाड़ियां फंस जाती हैं। इसी क्रम में गुरूवार को क्राइम मीटिंग में जा रहीं डीआईजी की गाड़ी भी फंस गई। भीषण जाम में फंसता देख डीआईजी खुद पैदल ही पुलिस लाइन पहुंचना उचित समझा और सीओ को जमकर फटकार लगाई। 

त्योहारों को लेकर डीआईजी/एसएसपी सोनिया सिंह जनपद के सभी थानाध्यक्षों व सीओ के साथ पुलिस लाइन में दोपहर क्राइम मीटिंग रखी। इसी दौरान बारिश के बाद पुलिस लाइन से लेकर ग्रीनपार्क, सरसैया घाट व एसएसपी आफिस के बाहर तक भीषण जाम लग गया। डीआईजी की गाड़ी ज्यों ही आफिस से बाहर निकली कुछ ही कदमों के बाद जाम में फंस गई। करीब आधा घंटे तक पुलिस कर्मी जाम को खुलवाने का प्रयास करते रहें पर कहीं से भी डीआईजी की गाड़ी नहीं निकलवा सके। 
यह देख डीआईजी का पारा हाई हो गया और गाड़ी से उतरकर पैदल ही पुलिस लाइन के लिए चल दिया। यह देख पुलिस कर्मियों के हाथ पाव फूल गये। पुलिस लाइन पहुंचते ही पहले से मौजूद सीओ को जमकर फटकार लगाई। साथ ही यह भी हिदायत दी कि अगर दोबारा ऐसा हुआ सख्त कार्रवाई की जाएगी। बताया तो यह भी जा रहा है कि मीटिंग में पहले मौजूद सभी थानाध्यक्षों की भी नहीं बख्शा गया। हालांकि मीडिया से डीआईजी ने इस प्रश्न को हंसते हुए टाल दिया और कहा हां यह जरूर है कि ऐसी स्थित में अगर एम्बुलेंस फंस जाती तो पुलिस के लिए चुनौती थी। 

चिन्हित किये जायें अराजकतत्व
डीआईजी ने क्राइम मीटिंग में साफ कहा कि त्योहारों पर किसी भी प्रकार की घटनाएं नहीं होना चाहिये। इसके लिए पीस कमेटियों के साथ सभी थानाध्यक्ष बैठक करें और उनसे सांप्रदायिक सद्भाव को लेकर चर्चा करें। मुखबिर तंत्र को मजबूत किया जाय। इसके साथ ही अपने-अपने क्षेत्र के अराजक तत्वों को चिन्हित किया जाय और उन पर सख्त निगरानी रखी जाये। जरूरत पड़े तो उनसे मुचलका भी भरा लिया जाय। एलआईयू भी पल-पल की खबरें उपलब्ध कराएं। क्षेत्र के संभ्रान्त लोगों व धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजन समिति से बराबर वार्तालाप होना चाहिये।

मोबाइल नहीं होना चाहिये बंद
डीआईजी ने कहा कि सभी सीयूजी नम्बर बंद नहीं होने चाहिये और सभी आने वाले फोन उठना चाहिये। अगर किसी काम से हो तों अपने अधीनस्थ को फोन भले ही दें दे, लेकिन फोन बंद नहीं चाहिये। कहा इस दौरान अगर किसी की शिकायत आई कि फोन नहीं उठा तो यह तय समझे कि कार्रवाई होना सुनिश्चित है। 

LEAVE A REPLY