यूपी :पूर्व मंत्री की अचानक हुई मौत

0
105

लखनऊ। लखीमपुर की निघासन सीट से भाजपा विधायक पटेल रामकुमार वर्मा का लंबी बीमारी के बाद आज लखनऊ के मिडलैंड अस्पताल में निधन हो गया। चिकत्सकों के द्वारा यह पुष्टी की गई है। वह काफी समय से बीमार चल रहे थे। लखनऊ के मिडलैंड हॉस्पिटल कपूरथला में इलाज चल रहा था।

उनके निधन से पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ ही क्षेत्रवासियों में शोक छाया हुआ है। रामकुमार नर्मा विधानसभा 138 के निघासन क्षेत्र के मौजूदा विधायक थे।राम कुमार वर्मा का अपने क्षेत्र में एक अलग ही प्रभाव रहा है। वह हर वक्त अपने कार्यकर्ताओं के साथ खड़े रहते थे।

भले ही योगी सरकार में मंत्रीमण्डल में जगह न मिली हो फिर भी उनके मन में सरकार के प्रति कोई नाराजगी नहीं थी। जबकि इसके पूर्व यूपी में भाजपा की सरकार में कैबिनेट मंत्री पद पर अपने दायित्वों का निर्वाहन उपलब्धियों के पुल बांध दिए थे।

हालांकि आज भी उनके चर्चे कम नहीं है। अपनी कुर्मी बिरादरी में जहां पटेल को बड़ा नेता माना जाता है। स्वर्गीय रामकुमार वर्मा 1978 से 1982 तक संघ के प्रचारक रहे। सन 1982 से 1984 तक जिला सह कार्यवाहक के रूप में उन्होंने काम किया। फिर भाजपा में 1984 से 1989 तक जिला महामंत्री का पदभार संभाला।इतना ही नहीं वहीं भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा प्रदेश कार्यसमिति के सदसय एवं भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के पद पर भी रह चुके थे।

उन्होंने 1989 में लखीमपुर खीरी के हैदराबाद गोला से विधान सभा का चुनाव लड़े और जीत हासिल की। साथ ही 1991 में भी पुनरू जीत हासिल कर विधायक बने। वहीं भाजपा विधान मण्डल दल के सचेतक का भी दायित्व संभाला। 1991 में लोक निर्माण विभाग एवं राज्य सम्पत्ति विभाग के राज्यमंत्री एवं कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया। क्षेत्र में बढ़ती लोकप्रियता के कारण भाजपा ने 1993 में फिर टिकट देकर प्रत्याशी बनाया।

और पटेल की लोकप्रियता ने पुनरू कमल खिला दिया। पटेल की कर्मठता के कारण उन्हें विधानसभा में प्राकलन समिति के सभापति के रूप में चुना गया। साथ ही कुर्मी बिरादरी के दमदार नेता के रूप में पटेल की छवि सामने आने लगी।

1997 में पार्टी ने लखीमपुर जनपद के निघासन क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया। पटेल ने वहां भी भारी मतों से विजय हासिल की। इसी दौरान कल्याण सिंह की सरकार में सहकारिता मंत्री का पदभार ग्रहण कर नए कीर्तिमान स्थापित किए। पटेल के असाधारण कार्यों को देखते हुए राष्ट्रपति एवं प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई ने उन्हें सम्मानित भी किया ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here