कानपुर:-विदेशी विशेषज्ञ रखेंगे महिलाओं की बीमारियों पर अपने विचार

0
81

कानपुर,27सितंबर। नारी सशक्तीकरण एवं महिलाओं के स्वास्थ्य पर चर्चा के लिए तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय अधिवेशन का आयोजन 5-7 अक्टूबर को जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज में किया जा रहा है। इसमें देश-विदेश से आए विशेषज्ञ महिलाओं में बांझपन की समस्या, उनकी विभिन्न बीमारियों के आधुनिक इलाज पर मंथन करेंगे। यह जानकारी गुरुवार को प्रेसवार्ता में आयोजन समिति की अध्यक्ष डॉ. मीरा अग्निहोत्री, आयोजन सचिव डॉ. किरन पांडेय एवं डॉ. कल्पना दीक्षित ने दी।

उन्होंने बताया कि फॉग्सी की वूमेन हेल्थ, वेलनेस फॉर वूमेन इम्पावरमेंट (डब्ल्यूडब्ल्यूडब्ल्यूकॉन 2018) पर अंतरराष्ट्रीय अधिवेशन के उद्घाटन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद शामिल होंगे। राष्ट्रपति महिलाओं की समस्याओं तथा उनके निराकरण के प्रति संवेदनशील हैं। फॉग्सी की कानपुर ऑब्स एवं गायनी सोसाइटी (काग्स) महिलाओं के स्वास्थ्य संबंधी कार्यो में उत्कृष्ट कार्य के लिए कई पुरस्कारों से सम्मानित हो चुकी है। उड़ीसा में 20 जनवरी को हुए फॉग्सी के वार्षिक सम्मेलन में डॉ. मीरा अग्निहोत्री को महिला सशक्तीकरण पुरस्कार से नवाजा गया। उसी सम्मेलन में सभी सदस्यों ने एकमत होकर कानपुर में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय अधिवेशन के आयोजन का निर्णय लिया। वहीं देव संस्कृत विश्वविद्यालय एवं विश्व गायत्री परिवार के उपकुलपति डॉ. प्रणव पाड्या गर्भ संस्कार एवं आध्यात्मिक उत्थान पर व्याख्यान देंगे।

अधिवेशन में होंगी तीन वैज्ञानिक कार्यशाला

बांझपन की समस्या, स्त्री एवं प्रसूति रोग में इंडोस्कोपी एवं लैप्रोस्कोपी पर कार्यशाला तथा कन्याओं की एडोलेसेंस पर कार्यशाला।

ये प्रमुख जन करेंगे शिरकत

केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, कैबिनेट मंत्री डॉ. रीता बहुगुणा, सतीश महाना, फॉग्सी के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. जयदीप मल्होत्रा, कोआर्डिनेटर डॉ. नरेंद्र मल्होत्रा, मेयर प्रमिला पांडेय, अभिनेत्री शबाना आजमी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here