एशिया कप : भारत की नजरें 5वीं जीत पर, अफगान की चाहत जीत से विदाई

0
45

दुबई : भारतीय क्रिकेट टीम एशिया कप सुपर फोर के अंतिम मैच में जब यहां अफगानिस्तान का सामना करेगी तो उसे उम्मीद रहेगी कि अब तक बल्लेबाजी का खास मौका नहीं पाने वाले मध्यक्रम के बल्लेबाजों को क्रीज पर समय बिताने का पर्याप्त मौका मिलेगा।

भारत पहले ही फाइनल में जगह बना चुका है और वह अपना अजेय अभियान जारी रखने में कसर नहीं छोड़ेगा लेकिन खिताबी मुकाबले से पहले वह अपने सभी विभागों को पूरी तरह से तैयार करना चाहेगा। हांगकांग के खिलाफ अप्रभावी प्रदर्शन के बाद भारत ने पाकिस्तान के खिलाफ दोनों मैचों और बांग्लादेश के खिलाफ एक मैच में एकतरफा जीत दर्ज की।

कप्तान रोहित शर्मा भी अब चाहेंगे कि मध्यक्रम के बल्लेबाजों को राशिद खान जैसे गेंदबाज के सामने क्रीज पर समय बिताने का पर्याप्त समय मिले। क्रिकेट अनिश्चितताओं का खेल है और ऐसे में रोहित कोई कसर नहीं छोडऩा चाहेंगे।
शिखर धवन (327) और रोहित (269) ने अब तक चार मैचों में भारत की तरफ से अधिकतर रन बनाये हैं तथा अन्य बल्लेबाजों ने खास योगदान नहीं दिया है। इन दोनों के बाद अंबाती रायुडु ने 116 रन बनाये हैं क्योंकि वह तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी के लिये आते हैं।

भारत की समस्या यह है कि महेंद्र सिंह धोनी, केदार जाधव और दिनेश काॢतक जैसे बल्लेबाजों को अब तक क्रीज पर समय बिताने का पर्याप्त मौका नहीं मिला है। इसका नमूना देखिये- रोहित और धवन ने अब तक क्रमश: 284 और 321 गेंदें खेली है जबकि रायुडु ने 162 गेंदों का सामना किया है। लेकिन कार्तिक ने 78 गेंद, धोनी ने 40 गेंद और केदार ने केवल 27 गेंदों का सामना किया है। अगर शीर्ष क्रम नहीं चल पाता है तो इन तीनों को अहम जिम्मेदारी निभानी होगी। रोहित ने बांग्लादेश के खिलाफ धोनी को चौथे नंबर पर उतारा और पूर्व कप्तान ने 33 रन बनाये लेकिन तब टीम पर दबाव नहीं था।

अगर राशिद खान और मुजीब उर रहमान दबाव बनाते हैं तो फाइनल से पहले यह मध्यक्रम के लिये अच्छा अभ्यास मैच हो सकता है। भारतीय कप्तान टास जीतने पर पहले बल्लेबाजी का फैसला कर सकता है जिससे टीम को पूरे 50 ओवर खेलने को मिलें क्योंकि भारतीय गेंदबाजों ने अब तक विरोधी टीमों पर कहर बरपाने में कसर नहीं छोड़ी है तथा सभी गेंदबाजों का इकोनोमी रेट पांच रन प्रति ओवर से कम है।

स्पिनरों ने शानदार भूमिका निभायी है। युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव ने कसी हुई गेंदबाजी की है जबकि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने डेथ ओवरों में अपनी यार्कर से बेजोड़ गेंदबाजी की है। भुवनेश्वर कुमार ने भी निरंतर अच्छी गेंदबाजी की है।

भारत फाइनल से पहले बुमराह और भुवनेश्वर को इस मैच में विश्राम दे सकता है। ऐसे में दीपक चाहर, सिद्धार्थ कौल और खलील अहमद में से किन्हीं दो को अंतिम एकादश में जगह मिल सकती है। जहां तक अफगानिस्तान की बात है तो मजबूत भारत पर जीत दर्ज करके वह अपने अभियान का अच्छा अंत करना चाहेगा। उसने टूर्नामेंट में लगातार अपने प्रतिद्वंद्वियों को कड़ी चुनौती दी लेकिन अनुभव की कमी उसके आड़े आयी। ग्रुप चरण में श्रीलंका और बांग्लादेश को हराने के बाद अफगानिस्तान सुपर फोर मैचों में पाकिस्तान और बांग्लादेश से करीबी अंतर से हार गया। बांग्लादेश के खिलाफ उसे अंतिम ओवर में आठ रन चाहिए थे लेकिन उसके बल्लेबाजों के पास मुस्ताफिजुर रहमान की विविधतापूर्ण गेंदों का जवाब नहीं था।

टीमें इस प्रकार :-

भारत: रोहित शर्मा (कप्तान), शिखर धवन, अंबाती रायुडु, दिनेश कार्तिक, केदार जाधव, महेंद्र सिंह धोनी (विकेटकीपर), रविंद्र जडेजा, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह, खलील अहमद, दीपक चाहर, सिद्धार्थ कौल, मनीष पांडे में से।

अफगानिस्तान: मोहम्मद शहजाद, इहसानुल्लाह जमात, जावेद अहमदी, रहमत शाह, असगर अफगान, हस्मत शाहिदी, मोहम्मद नबी, गुलबदीन नाइब, राशिद खान, नजीबुल्लाह जादरान, मुजीब उर रहमान, आफताब आलम, समीउल्लाह शेनवारी, मुनीर अहमद, सईद अहमद शेरजाद, अशरफ , मोमांद वफादार में से।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here