ग्रामीण इलाकों तक ड्रोन पहुंचाएगा खून, तीन दोस्तों ने लॉन्च किया स्टार्टअप

0
67

नागपुर,7 सितंबर।एक ड्रोन का इस्तेमाल कैमरे लगाकर निगरानी कराने और फूल बरसाने से ज्यादा हो सकता है। यह बात समझ में आई है तीन युवाओं को जिन्होंने ग्रामीण इलाकों के लोगों तक तेजी से मेडिकल सेवा पहुंचाने के लिए एक स्टार्टअप लॉन्च किया है। एयर इंडिया प्राइवेट लिमिटेड नाम की इस सेवा के जरिये लोगों तक ड्रोन खून, दवाएं और वैक्सीन पहुंचाएंगे। उम्मीद की जा रही है कि साल 2019 के बीच तक ग्रामीण इलाकों में इस सेवा को शुरू किया जा सकेगा।
23 से 25 साल की उम्र के अंशुल वर्मा, अरुणाभ भट्टाचार्य और ऋषभ गुप्ता ने यह स्टार्टअप लॉन्च किया है। अंशुल ने बताया कि कर्नाटक, पश्चिम बंगाल और नेपाल में 19 सफल डिलिवरी की जा चुकी हैं। ऋषभ ने बताया कि कंपनी ‘ब्लडस्ट्रीम’ नाम से एक प्रॉजेक्ट शुरू करेगी जो उन महिलाओं को भी खून पहुंचाएगी जिन्हें डिलिवरी के बाद इसकी जरूरत होगी।
अरुणाभ ने बताया कि 9 किलो के ड्रोन से 1.5 किलो तक दवाई पहुंचाई जा सकेगी और एक बार बैट्री फुल चार्ज करने पर बारिश और हवा के बीच भी 105 किमी तक की उड़ान भरी जा सकेगी। अरुणाभ कंपनी में चीफ टेक्निकल ऑफिसर भी हैं। उन्होंने बताया कि कंपनी का खुद का बनाया ड्रोन ‘मैग्नम’ डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन के सभी सुरक्षा मानकों का पालन करता है। सामान्य एयर ट्रैफिक में ये ड्रोन खलल नहीं डालेंगे क्योंकि यह काफी नीचे उड़ रहे होंगे।
अंशुल शर्मा ने बताया कि कम शेल्फ लाइफ की वजह से हर साल कई लाख यूनिट खून फेंक दिया जाता है। कोल्ड-चेन इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी के चलते खून ट्रांसपोर्ट नहीं हो पाता और ग्रामीण इलाकों में स्टोर भी नहीं हो पाता। उधर, जरूरत के समय खून, प्लाज्मा और प्लेटलेट्स के न होने से मां की जान चली जाती है। शर्मा ने बताया कि वे ड्रोन, डेटा साइंस और बादलों पर आधारित इन्वेन्टरी मैनेजमेंट सिस्टम का इस्तेमाल कर लॉजिस्टिक समस्या को सुलझाया जाएगा। उन्होंने बताया कि जरूरत पड़ने पर दूरस्थ इलाकों में खून पहुंचाया जाएगा। इसके लिए पूर्वानुमान के आधार पर चुनौतियां पार की जाएंगी। इससे पहले अमेरिका, स्विट्जरलैंड, न्यू जीलेंड, चीन, जापान, रवांडा, आइसलैंड, कोस्टा रिका जैसे देश खून के ट्रांसपोर्ट के लिए ड्रोन का इस्तेमाल कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here