DGCA ने NGT से कहा, आकाश से विमानों के शौचालय से मानव अपशिष्ट गिराना असंभव

0
129

नई दिल्ली,5सितंबर।नागरिक उड्डयन महानिदेशालय (डीजीसीए) की ओर से उड़ते विमान से मल-मूत्र गिराने पर 50 हज़ार रुपए का जुर्माना लगाने वाला परिपत्र जारी किए जाने के कुछ दिन बाद उड्डयन विनियामक ने एनजीटी से कहा कि विमानों के शौचालय से बीच हवा (आकाश) से मानव अपशिष्ट को गिराना असंभव है। डीजीसीए ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) अध्यक्ष आदर्श कुमार गोयल और न्यायमूर्ति जवाद रहीम की पीठ से कहा कि इस आदेश की वजह से वो मज़ाक का विषय बन गया है।
उड्डयन विनियामक ने यहां इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (आईजीआई) से संचालित सभी एयरलाइनों को परिपत्र जारी करने को लेकर दिए गए उसके (एनजीटी के) आदेश पर रोक और समीक्षा की मांग की। उड्डयन विनियामक ने ये भी कहा कि कचरा टैंक को खाली करने का विशेष स्थान है और इसे बीच आकाश में नहीं खोला जा सकता है। पीठ ने अपने आदेश पर रोक लगाने से इनकार कर दिया और कहा कि वो सुनवाई की अगली तारीख पर मामले पर विचार करेगी। पीठ ने कहा, परिपत्र पहले ही जारी किया जा चुका है। अब जल्दी क्या है? हम अगली सुनवाई की तारीख पर इसे देखेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here