सीरिया के मिलिट्री एयरबेस के पास इजरायल के लड़ाकू विमानों की बमबारी

0
58

दमसकस,2सितम्बर।सीरिया में एक बार फिर इजरायल के लड़ाकू विमानों ने जबरदस्‍त बमबारी की है। स्‍थानीय मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक यह बमबारी देर रात की गई। इसमें दमिश्‍क के निकट बड़े मिलिट्री एयरपोर्ट को निशाना बनाया गया है। दमिश्‍क के पास स्थित अल माजेह में सीरिया का बड़ा मिलिट्री एयरबेस है। इजरायल की तरफ से करीब पांच खास जगहों को निशाना बनाया गया। इसके लिए उसने कई मिसाइल भी दागे। सीरियाई मीडिया ने इस तरह की खबरों का खंडन किया है। उसका कहना है कि इस तरह का कोई हमला शनिवार को नहीं किया गया।
मीडिया रिपोर्ट में यहां तक कहा गया है कि माजेह एयरपोर्ट पर न कोई हमला हुआ और न ही धमाकों की आवाज सुनी गई। लेकिन स्‍थानीय मीडिया ने ये जरूर कहा है कि जिस धमाके की बात कही जा रही है उसकी वजह इजरायल का हमला नहीं बल्कि एम्‍यूनिशन डिपो में हुआ इलेक्ट्रिक फेलयर है। इसकी वजह से वहां पर धमाका हुआ। दमिश्‍क के स्‍थानीय लोगों के मुताबिक उन्‍होंने रात में करीब चार धमाकों की आवाजें सुनी। यह धमाके काफी तेज थे और रात में अचानक तेज रोशनी हो गई थी। इन धमाकों की आवाज मिलिट्री एयरपोर्ट की तरफ से आ रही थी। स्‍थानीय लोगों के मुताबिक धमाकों की आवाज सुनकर उन्‍हें लगा कि वहां पर विमानों ने बमबारी की है। इसके बाद लगातार काफी देर तक एंबुलेंस और दमकल की गाडि़यों की आवाजें आती रही। कुछ लोगों ने अपने मोबाइल से इस पूरे वाकये को कैप्‍चर भी किया तो कुछ ने सोशल मीडिया पर भी इसकी जानकारी दी है।
इन वीडियो में एयरपोर्ट के निकट तेज आग लगती दिखाई दे रही है। स्‍टेट मीडिया का कहना है कि कुछ रिपोर्ट में यह कहा गया था कि इजरायल के लड़ाकू विमानों ने सीरिया के दूसरे ठिकानों और पोस्‍ट पर बमबारी की है। खबरों में सफाई दी गई है कि माजेह के इलाके में काफी दूतावास स्थित हैं और इसके ही निकट सीरियाई राष्‍ट्रपति बशर अल असद का भी आवास है। लिहाजा एयरपोर्ट पर हमले का दावा पूरी तरह से झूठ है। आपको यहां पर बता दें कि सीरिया में ईरान और चरमपंथी संगठन हिज़बुल्लाह राष्ट्रपति बशर अल-असद के समर्थन में लड़ रहे हैं। ये दोनों ही इजराइल के खिलाफ हैं। इसलिए सीमा पर टकराव होता रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here