प्रतिभा पलायन रोकना हमारी प्राथमिकता: योगी आदित्यनाथ

0
41

लखनऊ। वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट) की तीन दिवसीय समिट के उद्घाटन समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश से किसी भी तरह से प्रतिभा पलायन रोकना हमारी प्राथमिकता में शामिल है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में लखनऊ में प्रदेश सरकार की योजना एक जिला एक उत्पाद (वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट) की तीन दिवसीय समिट का उद्घाटन किया।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कम समय में बेहतर परिणाम हर क्षेत्र में लेकर आना है, इसके लिए आवश्यक था कि युवाओं को पलायन से रोका जाए। युवाओं के लिए रोजगार व स्वावलंबन के कार्यक्रम स्थापित हों। एक जनपद-एक उत्पाद योजना को इसी सोच के साथ लाया गया। उत्तर प्रदेश अपनी परंपरागत छवि से उबरकर अपने उद्यम व पुरुषार्थ के माध्यम से देश में एक नई पहचान हासिल करेगा।22 करोड़ की आबादी को स्वावलंबन की ओर अग्रसर करना हम सबके लिए चुनौती थी। जब हमने मार्च, 2017 में कार्य आरंभ किया तो उस वक्त उत्तर प्रदेश की क्या स्थिति थी, इस बारे में बोलने की आवश्यकता नहीं। एक जनपद-एक उत्पाद येजना के तहत स्टार्टअप के लिए 250 करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई। पहली बार एक साथ 75 जनपदों में लाभार्थियों को 1006 करोड़ रुपये के वित्तपोषण की व्यवस्था की जा रही है।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश अपनी परंपरागत छवि से उबरकर अपने उद्यम व पुरुषार्थ के माध्यम से देश में एक नई पहचान हासिल करेगा। एक जनपद-एक उत्पाद की कॉफी टेबल बुक का अनावरण हुआ है। इसमें विस्तृत रूप से योजना के बारे में प्रकाश डाला गया है। इस योजना के माध्यम से हर वर्ष 5 लाख नौजवानों को रोजगार से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है। युवा अपने घर, अपने गांव, अपने जनपद और अपने प्रदेश में रोजगार पाएं। हमें विश्वास है कि पलायन रुकेगा और प्रतिभा का प्रयोग प्रदेश में ही होगा। विभिन्न जनपदों के उत्पादों की मार्केटिंग व ब्रांडिंग की दिशा में भी महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं।इससे पहले राष्ट्रपति ने इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में इससे संबंधित प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।

इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग की ओर से आयोजित प्रथम ‘‘ एक जनपद-एक उत्पाद ‘‘ (ओडीओपी) समिट का शुभारंभ किया। इसकी नींव 24 जनवरी को उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने रखी थी। राष्ट्रपति ने राज्यपाल राम नाईक, सीएम योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा व केशव प्रसाद मौर्य की मौजूदगी में दीप प्रज्जवलित कर ओडीओपी समिट का उद्घाटन किया। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद आज लखनऊ में प्रदेश सरकार की योजना एक जिला एक उत्पाद (वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट) की तीन दिवसीय समिट का उद्घाटन किया।

इससे पहले उन्होंने इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में इससे संबंधित प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग विभाग की ओर से आयोजित प्रथम ‘‘ एक जनपद-एक उत्पाद ‘‘ (ओडीओपी) समिट का शुभारंभ किया। इसकी नींव 24 जनवरी को उत्तर प्रदेश दिवस के अवसर पर उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने रखी थी। राष्ट्रपति ने राज्यपाल राम नाईक, सीएम योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा व केशव प्रसाद मौर्य की मौजूदगी में दीप प्रज्जवलित कर ओडीओपी समिट का उद्घाटन किया।राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक जनपद-एक उत्पाद की कॉफी टेबल बुक का विमोचन व वेबसाइट का शुभारंभ किया।

एक जनपद-एक उत्पाद समिट 2018 के दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की उपस्थिति में विभिन्न डवन्े का आदान-प्रदान किया गया।इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में इस दौरान अमेजन, क्वालिटी कंट्रोल ऑफ इंडिया, एनएसई, बीएससी और जीई हेल्थकेयर के प्रतिनिधियों व राज्य सरकार के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर भी हुए। इस समिट में राज्य सरकार की ओर से 4084 लाभार्थियों को 1006.94 करोड़ रुपए का ऋण वितरित किया गया। एक जनपद-एक उत्पाद के तहत 4095 लाभार्थियों को 1006.94 करोड़ रुपये का ऋण वितरित किया गया।सरकार ने हर साल एक लाख लोगों को ओडीओपी योजना से जोडने का लक्ष्य निर्धारित किया है। यूपी पहला ऐसा प्रदेश है, जो ओडीओपी के माध्यम से लोगों को उनके घर में ही रोजगार उपलब्ध कराने के लिए परंपरागत कुटीर उद्योगों को बढ़ावा दे रहा है।

प्रदेश में इस समय 8900 करोड़ रुपए का ही निर्यात होता है, जिसे बढ़ाकर दो लाख करोड़ करने का लक्ष्य रखा गया है।इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में राष्ट्रपति रामानथ कोविंद ने सबसे पहले प्रदेश के सभी 75 जिलों से सम्बंधित प्रमुख उत्पादों की प्रदर्शनी को देखा। इस दौरान वहां मौजूद उद्यमियों से बातचीत भी करेंगे। यह प्रदर्शनी 12 अगस्त तक चलेगी।दीप प्रज्जवलन के बाद राष्ट्रपति लाभार्थियों को ऋण पात्र और टूल किट भी वितरित किया। राष्ट्रपति का लखनऊ प्रवास करीब छह घंटे का है। 9.30 बजे एयरपोर्ट पर उतरने के बाद वह सीधा राजभवन गए।

वहां पर करीब एक घंटा आराम करने के बाद ओडीओपी समिट का उद्घाटन करने इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान पहुंचे। दोपहर में राज्यपाल राम नाईक की तरफ से दोपहर के भोजन में शामिल होंगे। इसके बाद उनका राजभवन में कुछ चुनिंदा लोगों से भेंट करने का कार्यक्रम है। इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के लखनऊ आगमन पर अमौसी एयरपोर्ट पर राज्यपाल राम नाईक के साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तथा मंत्रिमंडल के अन्य सहयोगियों ने उनका स्वागत किया। इससे पहले उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने लखनऊ में 24 जनवरी को उत्तर प्रदेश दिवस पर वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट योजना की आधारशिला रखी थी।

राष्ट्रपति का लखनऊ प्रवास करीब छह घंटे का है। 9.30 बजे एयरपोर्ट पर उतरने के बाद वह सीधा राजभवन गए। वहां पर करीब एक घंटा आराम करने के बाद ओडीओपी समिट का उद्घाटन करने इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान जाएंगे। वहां पर उद्घाटन के बाद वह विभिन्न स्टॉल का निरीक्षण करने के बाद दोपहर में राज्यपाल राम नाईक की तरफ से दोपहर के भोजन में शामिल होंगे। इसके बाद उनका राजभवन में कुछ चुनिंदा लोगों से भेंट करने का कार्यक्रम है। एक जिला-एक उत्पाद अभियान की शुरुआत जापान में 1979 में हुई थी। जब जापान के ओइटा प्रांत के तत्कालीन गवर्नर मोरिहिको हिरामात्सु ने ‘‘ वन विलेज वन प्रोडक्ट ’’ स्कीम शुरू की थी। इस मॉडल को 2001-06 के बीच थाईलैंड में श्वन टैम्बोन वन प्रोडक्टश् के रूप में अपनाया गया। बाद में दुनिया के अन्य देशों जैसे कि इंडोनेशिया, फिलीपींस, मलेशिया, चीन आदि में भी इस मॉडल को अमली जामा पहनाया गया। उप्र इस मॉडल को अपनाने वाला देश का पहला राज्य है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here