कानपुर: आज से शुरू हो रहा विश्व स्तनपान सप्ताह…

0
98
कानपुर,31जुलाई | भारतीय बाल रोग अकादमी द्वारा एक वार्ता का आयोजन स्थानीय होटल में किया गया जिसमें जानकारी देते हुए भूतपूर्व आईएपी प्रदेश अध्यक्ष डा0 एमएम मैथानी, कानपुर नगर अध्यक्ष डा0 ललित अरोरा, सचिव डा0 अमित चावला, डा0 सविता रस्तागी, डा0 आशीष विश्वास ने बताया कि माताओं व अभिभावकों तथा समाज को स्तनपान के महत्व के प्रति जागरूक करने का पिछले 26 वर्षो से काम यिका जा रहा है।
      डा0 ललित अरोरा ने कहा नवजात शिषु क ेलिए मां का दूध एक सर्वोत्तम आहार है तथा शिशु को स्तनपान के माध्यम से कुपोषण के खतरे तथा संक्रमण से बचाया जा सकता है। शिशु को जन्म से 6 माह तक आहारमें केवल मां का ही दूध पिलाना चाहिये। इसके लिए पहले से ही मां को स्तनपान की जानकारी दी जानी चाहिये। संयोजिका डा0 सविता रस्तोगी ने बताया कि मां का दूध ही बच्चे का पहला टीका है। स्तनपान करने वाले बच्चे डायरिया, निमोनिया व अन्य रोगो से ग्रस्त होने की संभावना कम होती है। डा0 अमित चावला ने बताया कि शिशु को स्तन से बारी बारी दूध पिलाये साथ ही मातायें ध्यान रखे कि बच्चे की पकड निपिल पर न होकर उसके चारों और गहरे रंग के हिस्से एरिओला पर होनी चाहिये। सिर्फ निप्पल सूचने से घाव और दरारे होने का खतरा रहता है। डा0 आशीष विश्वास ने कार्यक्रमों की जानकारी देते हुए बताया कि आज 1 अगस्त को मोहन चिल्ड्रेन हास्पिटल घंटाघर में स्तनपान कराने वाली माताओं को प्रशिक्षण दिया जायेगा, कल 2 अगस्त को आरके सिन्धी हास्पिटल गोविन्द नगर में प्रशिक्षण दिया जायेगा तथा 3 अगस्त को बडा चैराहा स्थित डफरिन हास्पिटल में प्रशिक्षणकार्यक्रम होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here