राजसी ठाठ देखनी हो तो पधारें राजस्थान, करें विश्‍व धरोहर बन चुके किलों की सैर

0
255

नई दिल्ली : हाल ही में फिल्म पद्मावत में तो आपने राजस्थान के किलों और महलों की शान देखी ही होगी। अगर सच में इनका दीदार करना चाहते है तो देर न करे, राजस्थान पधार कर आप इन्हें अपनी आखों से निहार सकते है। राजस्थान राजसी ठाट और शानो-शौकत के लिए देश ही नहीं पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है, साथ ही ये अपने किलो के लिए भी दुनियाभर में प्रसिद्ध है। यहाँ के ऐतिहासिक किले अब विश्‍व धरोहर बन चुके है। दुनियाभर से लोग इसे देखने आते है जिसमे विदेशी पर्यटकों की तादाद भी काफी ज्यादा होती है। आज हम आपको बताने जा रहे है राजस्थान के कुछ ऐसे ही किलों के बारे में जो हमेशा से पर्यटकों के आकर्षण के केंद्र रहे हैं।

पर्याप्त समय निकाल कर ही जाएं

किसी भी किले को देखने जाने से पहले आप ये तय कर लें कि आपके पास पर्याप्त समय है या नहीं? अमूमन 3-4 घंटे का समय एक फोर्ट घूमने के लिए पर्याप्त है।

Related image

आमेर का किला

जयपुर शहर से 11 किलोमीटर दूर पहाड़ पर स्थित आमेर का किला विश्‍व धरोहर है। स़फेद और लाल बलुआ पत्थर से बना ये किला पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। इसका निर्माण 1592 में हुआ था। आमेर फोर्ट हमेशा से बॉलीवुड को अपनी ओर आकर्षित करता रहा है। जोधा अकबर, बोल बच्चन, वीर आदि फिल्में आमेर के किले में शूट हुई हैं।

आकर्षण के केंद्र

• आमेर का किला हाथी की सवारी के बिना अधूरा है। हाथी की सवारी के साथ किले का आकर्षण और भी बढ़ जाता है।
• किले के अंदर दिल-ए-आराम गार्डन देखना न भूलें।
• दिवान-ए-आम, शिला देवी मंदिर, शीश महल आदि यहां के मुख्य आकर्षण हैं।

कैसे जाएं?

जयपुर से आप प्राइवेट टैक्सी के ज़रिए आमेर पहुंच सकते हैं।

Related image

मेहरानगढ़ का किला

जोधपुर में 122 मीटर की ऊंचाई पर बना यह किला आज से नहीं, बल्कि सालों से आगंतुकों के आकर्षण का केंद्र रहा है। जोधपुरी नक्काशी का जीता-जागता नमूना मेहरानगढ़ किले का निर्माण 1549 में हुआ था।

आकर्षण के केंद्र

• किले के जय पोल से पूरे शहर का दृश्य बहुत ही ख़ूबसूरत लगता है। जोधपुर शहर को यहां से देखने का लुत्फ़ ज़रूर उठाएं।
• ज़ेनाना महल, फूल महल, मोती महल, शीश महल और म्यूज़ियम यहां के मुख्य आकर्षण हैं।

कैसे जाएं

जोधपुर रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर की दूरी पर मेहरानगढ़ का किला है। आप लोकल सवारी से कुछ मिनटों में ही यहां पहुंच सकते हैं।

Image result for चित्तौड़गढ़ का किला

चित्तौड़गढ़ का किला

यह भारत का सबसे बड़ा किला है। 180 मीटर की ऊंचाई पर बना यह किला वॉटर फोर्ट के नाम से भी जाना जाता है। हाल में रिलीज हुई फिल्म पद्मावत इसी किले और इससे जुड़े राजपरिवार की कहानी पर बेस्ड है। तो इस किले को देखना तो बनता है।

आकर्षण के केंद्र

• किले के सात बड़े दरवाज़े आकर्षण के केंद्र हैं।
• इसके साथ कीर्ति स्तंभ और विजय स्तंभ भी पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं।
• राणा कुंभ महल, फतेह प्रकाश महल और पद्मिनी पैलेस देखने लायक हैं।
• कुंभश्याम मंदिर और कालिका माता मंदिर के दर्शन ज़रूर करें।

कैसे जाएं?

यहां पहुंचने के लिए उदयपुर सबसे सही जगह है। उदयपुर से टैक्सी के ज़रिए आप 113 किलोमीटर दूर चितौड़गढ़ पहुंच सकते हैं।

Image result for जैसलमेर का किला

जैसलमेर का किला

सोनार किला या गोल्डन किला के नाम से मशहूर जैसलमेर का किला लोगों के दिलों में एक ख़ास जगह बनाए हुए है। सूरज की किरणें जब इस सुनहरे किले की दीवारों पर पड़ती हैं, तो सोने-सा चमक उठता है ये किला।

आकर्षण के केंद्र

• किले में दाखिल होने का पहला भव्य और बड़ा दरवाज़ा अनायास ही पर्यटकों के मन को मोह लेता है।
• राजमहल, जैसलमेर फोर्ट पैलेस म्यूज़ियम ज़रूर देखें।
• जैन और लक्ष्मीनाथ मंदिर का दर्शन अवश्य करें।

कैसे जाएं?

जोधपुर से 280 किलोमीटर दूर जैसलमेर शहर है। जैसलमेर का किला रेलवे स्टेशन से स़िर्फ 3 किलोमीटर की दूरी पर है। रिक्शा या फिर टैक्सी द्वारा आप यहां पहुंच सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here