नई दिल्ली: 11 शवों की अनसुलझी पहेली ,आखिर क्या है मोक्ष प्राप्ति ….

0
206
छह लोगों की शुरुआती पोस्टमार्टम रिपोर्ट में फांसी से मरने की आशंका, पांच के पेट में मिला तरल पदार्थ
नई दिल्ली, 02 जुलाई । उत्तरी जिले के बुराड़ी के संत नगर इलाके में रविवार की सुबह एक ही परिवार के 11 लोगों के शव मिलने की गुत्थी अभी भी उलझी हुई है। सोमवार सुबह मौलाना आज़ाद मेडिकल कॉलेज में 11 में से छह लोगों का पोस्टमार्टम हुआ। क्राइम ब्रांच के जॉइंट कमिश्नर आलोक कुमार के अनुसार भवनेश, प्रतिभा,ध्रुव, शिवम, टीना और ललित का पोस्टमार्टम हुआ। शुरूआती रिपोर्ट में छह लोगों की मौत का कारण फांसी आया है। सूत्रों के अनुसार 11 में से पांच के पेट मे कुछ तरल पदार्थ मिला है| इससे आशंका नशीली या जहरीली चीज दिए जाने की बढ़ गई है। सूत्रों के अनुसार शाम को निगम बोध घाट में 11 शवों का दाह संस्कार किया जाएगा|
इसकी सभी प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। घटना स्थल से मिली डायरी में जो लिखी हुई थी मोक्ष की प्राप्ति, शनिवार को अमल करने का सब से उचित दिन, हाथ पैरों को बांधने जैसी बातें की पुष्टि कर दी है। हत्या या आत्महत्या ? पुलिस सूत्रों की मानें तो पुलिस के पास उक्त मामले में पूछताछ करने के लिए परिवार का कोई भी सदस्य जीवित नहीं बचा है कि यह हत्या है या आत्महत्या? यह पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही पता चल सकेगा। इस तरह से होगी जांच मामले की जांच कर रहे एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार ऐसे मामलों में पोस्टमार्टम में सबसे पहले यह पता लगाया जाएगा कि इनकी मौत फांसी पर लटकने की वजह से हुई है या किसी और वजह से। अगर मौत फांसी की वजह से हुई है तो यह पता लगाया जाएगा कि व्यक्ति फंदे पर खुद लटका या उसे जबरन लटकाया गया। इसके लिए शव के गले की कई तरह से जांच की जाती है। साथ ही शवों की पूरी तरह से बाहरी जांच की जाएगी। यह देखा जाएगा कि शरीर पर कोई इंजेक्शन या किसी और तरह का कोई निशान है या नहीं ? कई बार इंजेक्शन से जहर देकर व्यक्ति को मार दिया जाता है|
बाद में उसे आत्महत्या दिखाने के लिए फंदे पर टांग दिया जाता है। विसरा सुरक्षित रखा जाता है ऐसे मामलों में पुलिस के अनुसार ऐसे मौत या आत्महत्या में मृतकों के आंत के अंदर मिले खाद्य पदा‌र्थों की भी जांच की जाती है। इसमें पता लगाया जाता है कि मृतक को खाने में जहर देने की कोशिश तो नहीं की गई। इसके अलावा इनके विसरा को भी सुरक्षित रखा जाता है और विशेष जांच के लिए भेजा जाता है। कयासों का बाजार गर्म एक ही परिवार के 11 लोगों की मौत के बाद से पड़ोस में रहने वाले लोग तरह-तरह का कयास लगा रहे हैं। कई लोगों का कहना है कि ऐसी घटना से साफ नजर आता है कि कहीं न कहीं इसके पीछे मानसिक दबाव है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here