राष्ट्रपति से पुरस्कृत डॉ. गीता मिश्रा पंचतत्व में हुई विलीन

0
111

संघ परिवार व शिक्षा जगत से जुड़े लोगों सहित शहरवासियों ने दी श्रद्धांजलि

कानपुर, 01 जुलाई । राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के कई अनुषांगिक संगठनों की बेहतर जिम्मेदारी संभालने वाली व बीएनएसडी शिक्षा निकेतन इंटर कॉलेज की प्रधानाचार्या डॉ. गीता मिश्रा को आज हजारों शहरवासियों ने श्रद्धांजलि देकर भैरव घाट में अन्तिम विदाई दी। इसके साथ ही वह पंचतत्व में विलीन हो गईं। डॉ. गीता मिश्रा का शनिवार गुरूग्राम में आकस्मिक निधन हो गया था। इससे शिक्षा जगत व संघ परिवार सहित शहरवासियों में शोक की लहर दौड़ पड़ी।

56 वर्षीय डॉ.गीता मिश्रा बचपन से ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से जुड़ी रहीं और जो उन्हे जिम्मेदारी दी गयी उसे सदैव तन्मयता से निभाई। इसी के चलते उन्होंने शादी न करने का फैसला लिया। संघ के तमाम अनुषांगिक संगठनों में उनकी भूमिका कानपुर में सदैव बनी रहती थी। इसके साथ ही शिक्षा के क्षेत्र में भी उनका योगदान सदैव रहता था, करीब 17 वर्ष तक बीएनएसडी शिक्षा बालिका निकेतन की वह प्रधानाचार्या रहीं और एक जून को डा. अंगद सिंह की जगह पर बीएनएसडी शिक्षा निकेतन इंटर कालेज की प्रधानाचार्या बनी। बीते 26 जून को उनकी तबीयत बिगड़ने पर स्वरूप नगर के आर.के.देवी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। जहां से रीजेंसी के लिए रेफर कर दिया गया। शनिवार को हालत बिगड़ने पर अपराह्न चार बजे एयर एम्बुलेंस की व्यवस्था की गईए लेकिन चकेरी में एयर एम्बुलेंस के आने में अड़चनों को देखते हुए फौरन उन्हें एम्बुलेंस से लखनऊ स्थित पालम हवाई अड्डे ले जाया गया।


जहां उसे उन्हें हरियाणा के गुरूग्राम स्थित मेदांता हॉस्पिटल पहुंचाया गया। यहां पर उनका चिकित्सकों ने रिपोर्ट के अनुसार इलाज शुरू ही किया था कि उनकी सांसे थम गई। डॉ. गीता के निधन की सूचना लगते ही कॉलेज सहित उनके करीबियों व रिश्तेदारों में शोक की लहर दौड़ गई। उनका पार्थिव शरीरभोर पहर पी रोड स्थित उनके आवास पर आ गया था। जिसके बाद उनके चाहने वाले व संघ परिवार के साथ ही शिक्षा जगत से जुड़े लोगों का वहां पर तांता लगने लगा। रविवार को पूर्वान्ह 11 बजे भारी भीड़ के साथ शहरवासियों ने उनकी अन्तिम यात्रा में शामिल होकर भैरव घाट पहुंचे और उन्हे नमन कर श्रद्धांजलि दी। इसके बाद परिजनों ने मुखाग्नि दी और वह पंचतत्व में विलीन हो गयीं।

मजदूर संघ के प्रदेश कोषाध्यक्ष बृज भूषण सिंह ने बताया कि डॉ. मिश्रा प्रधानाचार्य के साथ भारतीय शिक्षण मण्डल की राष्ट्रीय महिला प्रमुख, हिन्दू अनाथालय की कोषाध्यक्ष, संस्कार भारती कानपुर प्रान्त की संयोजिका, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ कानपुर की महिला समन्वयक थी। राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने उन्हे राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया था।

कॉलेज के निदेशक डॉ. अंगद सिंह ने बताया कि उन्हे बंद डायरिया हो गया था। उनके निधन से काफी क्षति पहुंची है जिसकी भरपाई नहीं की जा सकती। इस दौरान कॉलेज के निदेशक डॉ. अंगद सिंह, एमएलसी अरूण पाठक, बैरिस्टर वीरेन्द्रजीत सिंह, भाजपा जिलाध्यक्ष सुरेन्द्र मैथानी, जिला विद्यालय निरीक्षक सतीश तिवारी, आरएसएस के प्रांत प्रचारक संजय जी, अजय अग्निहोत्री, मोहित वर्मा, दिनेश अवस्थी, डॉ. दिवाकर मिश्रा, सलिल विश्नोई, सुरेश अवस्थी, सुनील बजाज, अवध बिहारी मिश्रा आदि मौजूद रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here