बंगला विवाद पर बोले अखिलेश, हमें बदनाम करने की हो रही साजिश

0
114

लखनऊ, 13 जून । सरकारी बंगले में हुई तोड़फोड़ मामले में राज्यपाल द्वारा पत्र लिखने के बाद सपा मुखिया अखिलेश यादव ने बुधवार को मीडिया के सामने अपनी सफाई दी। कहा कि सरकारी बंगले में उन्होंने कोई तोड़फोड़ नहीं की। भाजपा उपचुनावों में हार गयी, इसलिए हमें बदनाम करने की साजिश कर रही है। अखिलेश ने इस दौरान राज्यपाल राम नाईक पर भी निशाना साधा। कहा कि वह बहुत अच्छे इंसान हैं, पर उनके अंदर कभी-कभी आरएसएस की आत्मा आ जाती है। इसीलिए सरकार की खामियां उनकों नजर नहीं आती है।

सरकारी टेंडर कितनी मात्रा में रद्द हो रहे हैं, लेकिन उन्हें दिख नहीं रहा है। बंगला विवाद पर राज्यपाल द्वारा मुख्यमंत्री योगी को लिखी गयी चिट्ठी पर अखिलेश यादव ने कहा कि सोए हुए लोग भी जाग गए। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने प्रमुख सचिव, मुख्यमंत्री पर रिश्वत के आरोप की चिट्ठी भी लिखी थी, लेकिन उसमें क्या हुआ ? गौरतलब है कि पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा खाली किये गये सरकारी आवास में हुए तोड़फोड़ के प्रकरण में राज्यपाल राम नाईक ने मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर समुचित कार्रवाई करने को कहा था। सपा कार्यालय पर आयोजित पत्रकार वार्ता में अखिलेश ने दावा किया कि जैसा घर उन्हें मिला था, वह उसी हालत में यथावत मौजूद है। मेरे घर में पिछले सवा साल में एक हजार बच्चे आए होंगे। उन सबसे पूछो कि कहां है स्वीमिंग पूल।

जब वहां स्वीमिंग पूल है ही नहीं, उस पर खबर बना दी गई कि पूल पर मिट्टी डाल दी गई। सपा अध्यक्ष ने कहा कि मुझे तो सरकार की रिपोर्ट का इंतजार है, जिससे पता चले कि मैंने सराकरी संपत्ति को कितना नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को छोटा दिल और छोटी मानसिकता वाला बताते हुए कहा कि एक्सप्रेस वे और मेट्रो हमने दिया लेकिन उन्होंने कभी हमारा नाम नहीं लिया। सिर्फ हमारे किए गए काम का ही उद्घाटन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये इसलिए ऐसा कर रहे हैं क्योंकि गोरखपुर और फूलपुर की हार ये स्वीकार नहीं कर पा रहे हैं।

अखिलेश ने कहा कि बंगले को मैंने अपनी पसंद से बनवाया था। आज भी वहां पर जो वुडेन फ्लोरिंग लगी है, मंदिर है और अन्य चीजें हैं। ये सब मैंने अपने पैसे से बनवाया था। तोड़फोड़ की खबरों पर अखिलेश यादव ने कहा कि उनके द्वारा बंगला खाली करने के बाद मुख्यमंत्री योगी के ओएसडी वहां गए थे। मैं पूछना चाहता हूं कि वह क्या करने गए थे ? ये लोग फोटोग्राफर लेकर गए थे। अखिलेश ने कहा कि बंगले में वुडेन फ्लोरिंग के साथ ही तमाम चीजें अभी भी जस की तस हैं।

एक टूटे हुए कोने की तस्वीर इस तरह से खींची गई कि लगे कि पूरा बंगला ही खराब कर दिया गया। उन्होंने कहा कि लोग प्यार में अंधे होते होंगे पर जलन और नफरत में अंधे होते हैं ये मैंने अब देखा है। अखिलेश ने कहा कि टोटी कौन तोड़ता है। अफीमची या भांग खाने वाला। वह अफीमची कौन था, जो टोटी तोड़ने गया।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जो मेरी चीज थी, वह मैं लेकर गया। अगर सरकारी दस्तावेज में ये सभी चीजें दर्ज हैं तो मुझे दिखाए। सरकार जाने के बाद यही अधिकारी आपके आवास से चिलम ढूढ़ के लाएंगे। उन्होंने कहा कि जनता के बीच जाएंगे जनता जवाब देगी। अखिलेश ने कहा कि हमारा और मायावती का घर खाली करा दिया, जनता इन्हें सबक सिखाएगी। गांधी जी का भी अपमान किया गया था। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करता हूं, पर सरकारें षड्यंत्र करती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here