कानपुर : सूरज की आग उगलती किरणों से सड़कों पर पसरा सन्नाटा

0
110

कानपुर, 12 जून। आसमान साफ होने से मंगलवार को सूरज की आग उगलती किरणों ने पारे में तीन डिग्री सेल्सियस का इजाफा कर दिया। जिससे लोग आग बरसती गर्मी में घरों पर दुबकने को मजबूर हो गयें और सड़कों पर सन्नाटा पसर गया। मौसम विभाग का कहना है कि पश्चिमी हवाओं के चलते अब आसमान साफ रहेगा और अभी कुछ दिन और लोगों को भीषण गर्मी का प्रकोप झेलना पड़ेगा।

पश्चिमी उत्तरी प्रदेश में हुई प्री मानसून की बारिश और उत्तरी पूर्वी हवाओं के चलते मौसम विभाग ने कानपुर के आस-पास भी प्री मानसून की बारिश होने की संभावना जतायी थी। लेकिन अब हवाओं की दिशायें बदल गयीं, जिससे प्री मानसून की संभावना खत्म हो गयी और आसमान साफ होने से मंगलवार को पारे में बढ़ोत्तरी हो गयी। चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डा. अनिरूद्ध दुबे ने बताया कि अब कानपुर में मानसून 18 जून के आस-पास आयेगा। पश्चिमी हवायें चलने से जहां आसमान साफ हो रहा है तो वहीं वातावरण में नमी की कमी भी हो रही है। जिससे एक बार फिर झुलसाने वाली गर्मी वापस लौट आयी। अगले चार दिनों तक बारिश की दूर-दूर तक संभावना नहीं है। हो सकता है कि चार दिनों बाद हवाओं की दिशाओं में बदलावा आये तो प्री मानसून के आसार बन सकते हैं। कहा इस सप्ताह आसमान साफ रहेगा और शुष्क हवायें भी चलेगीं। जिससे गर्मी से लोगों को फिलहाल राहत मिलती नहीं दिख रही है।

डा. दुबे ने बताया कि जहां सोमवार को सुबह 10 बजे तक अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस रहा तो वहीं मंगलवार को 32 डिग्री रहा। इसके बाद दोपहर तक आसमान में तेज धूप के चलते अधिकतम तापमान 43.8 डिग्री सेल्सियस जा पंहुचा। जो कल की अपेक्षा तीन डिग्री सेल्सियस रहा। वहीं न्यूनतम तापमान में भी तीन डिग्री सेल्सियस की बढ़ोत्तरी के साथ 31 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। बताया कि पछुआ हवाएं चल रहीं हैं, जिनकी रफ्तार आज कम हो गयी हैं और दो किलोमीटर प्रति घंटा रही। सुबह की आर्द्रता में पांच फीसदी की गिरावट के साथ 57 फीसदी और दोपहर की आर्द्रता में सात फीसदी की कमी के साथ 30 फीसदी दर्ज की गयी। इसी के चलते आज गर्मी और ज्यादा महसूस होने लगी।

गर्मी के आगे कूलर व पंखे नतमस्तक
चिलचिलाती धूप और भीषण गर्मी के आगे कूलर व पंखे भी नतमस्तक हो गयें हैं। न ही कूलर काम कर रहें है और न ही पंखे। इस तापमान में कूलर पंखे की स्पीड का भी पता नहीं चल रहा है। इससे लोगों की हालत खराब हो रही है। तो वहीं बढ़ती गर्मी के चलते बिजली में फाल्ट होने के आंकड़े बढ़ गयें हैं। जिससे लोगों को बराबर बिजली न मिल पाने से और समस्या खड़ी हो जा रही है।

एसी की हीट से बढ़ रहा तापमान
बढ़ती गर्मी का एक कारण एसी से निकलने वाली हीट भी है। इस समय गर्मी से बचने के लिए शहर में करीब तीस फीसदी से अधिक लोग एसी का प्रयोग कर रहें हैं। यही नहीं शहर में लाखों वाहन एसी वाले हैं। वाहनों व घरों में एसी चलने के कारण इससे निकलने वाली हीट कोढ़ में खाज का काम कर रही है। इसके अलावा शहर में खुले मॉलों में लगे एसी की भी हीट बाहर ही निकल रही है, जिससे गर्म और बढ़ रही है।

तरल पदार्थ करेगा बचाव
इन दिनों चल रही भीषण गर्मी को लेकर जिला अस्पताल के फिजीशियन डा. गौतम जैन ने बताया कि ऐसे में पानी अधिक से अधिक पीना चाहिये। बाजार के कटे-फटे फल बिल्कुल न खायें। हाइजेनिक (साफ सुथरा) खाना लेना चाहिये। तला व चिकना खाने परहेज करें और इसकी जगह पर गर्मी से बचने के लिये अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here