कानपुर ;जिला अस्पताल में नहीं है एंटी रैबीज इंजेक्शन

0
95

कानपुर, 10 जून । कानपुर शहर में आवारा कुत्तों की दहशत कायम है। कुत्तों का झुंड हमलावर होकर इंसानों को निशाना बना रहा है, वहीं सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित अधिकारियों को इसकी जरा भी फिक्र नहीं। अचानक बढ़े खुंखार कुत्तों का आतंक हर इलाकों में फैला हुआ है। रोजाना कई लोग आवारा कुत्तों का शिकार हो रहे हैं, लेकिन जब वो इलाज के लिए जिला अस्पताल उर्सला पहुंचते हैं, तो उन्हें निराशा हाथ लगती है, क्योंकि अस्पताल में रैबीज के इंजेक्शन खत्म हो चुके हैं और उन्हें वापस लौटा दिया जाता है।

बताया जाता है कि कानपुर शहर के उर्सला अस्पताल में उन्नाव, हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा आदि जनपदों के मरीज एंटी रैबीज वैक्सीन लगवाने आते हैं। हालांकि यह व्यवस्था एलएलआर अस्पताल(हैलट), केपीएम और कांशीराम ट्रामा सेंटर में भी थी, लेकिन वहां काफी समय से इंजेक्शन मुहैया नहीं होने से उर्सला में ही टीकाकरण होने लगा। इन दिनों जब आवारा कुत्तों का आतंक बढ़ा हुआ है, तब उर्सला अस्पताल में रैबीज वैक्सीन खत्म हो चुकी है। यही नहीं गेट पर बाकायदा ये नोटिस चस्पा है कि यहां एंटी रैबीज इंजेक्शन खत्म हो चुके हैं, लेकिन सवाल यह है कि पहले से ही स्टॉक मेनटेन क्यों नहीं, किया गया?

इस संबंध में रविवार को उर्सला के निदेशक डॉ उमाकांत ने बताया कि जो कंपनी रैबीज के इंजेक्शन उपलब्ध करा रही है, उससे पत्राचार किया गया है और मौखिक रूप से जल्द ही अस्पताल में इंजेक्शन उपलब्ध कराने को कहा गया है। साथ ही मरीजों की समस्याओं को देखते हुए शासन को भी पत्र लिखकर अवगत करा गया है। उन्होंने बताया कि जल्द ही रैबीज इंजेक्शन आ जाएंगें और मरीजों को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

जिला अस्पताल में लगभग हर दो माह में रैबीज इंजेक्शन की कमी आ जाती है। इसके बावजूद हर बार अस्पताल निदेशक रटा-रटाया जवाब देकर अपनी जिम्मेदारी से कन्नी काट लेते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here