सरकार का प्रयास गरीबों को बीमारी के वित्तीय बोझ से मुक्ति दिलाना: प्रधानमंत्री

0
50

नई दिल्ली, 07 जून। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को केन्द्र सरकार की स्वास्थ्य योजनाओं के लाभार्थियों से वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से बातचीत की। उन्होंने कहा कि बीमारी के चलते गरीब और मध्यम आय वर्ग के लोगों को वित्तीय समस्याओं का सामना करना पड़ता है, उनकी सरकार की कोशिश है कि आमजन को सस्ती और सुलभ स्वास्थ्य सुविधायें मिलें। प्रधानमंत्री ने बताया कि सस्ती दवाएं मुहैया कराने के लिए उनकी सरकार प्रधानमंत्री जनऔषधि परियोजना लेकर आई है।

इसका मकसद सस्ती दरों पर गरीब लोगों को आसानी से दवा मुहैया कराना है। इस दौरान ओडिशा से मोहंती ने मोदी को बताया कि जनऔषधि योजना के चलते ब्लड प्रेशर, मधुमेह जैसी बीमारियों पर नियमित आने वाले खर्च काफी कम हुआ है। पहले वह हर महीने ब्लड प्रेशर, मधुमेह और कोलेस्टोल की बीमारी पर 3 हजार खर्चा करते थे जो अब घटकर 4 सौ रुपया रह गया है। ऐसा हीदराबाद के माला ने भी बताया। झारखण्ड के रामगढ़ से अंजन का कहना है कि वह जनऔषधि केन्द्र चलाते हैं और उन्हें बेहद खुशी होती है कि जब गरीब लोग इसका लाभ उठाकर अपनी दवाओं का बिल कम कर पाते हैं।

उन्होंने बताया कि ऐसे स्टोर खोलने की प्रक्रिया में किसी तरह का भ्रष्टाचार नहीं है और सबकुछ पारदर्शी है। इसके अलावा, अन्य लाभार्थियों ने भी प्रधानमंत्री को सरकारी योजनाओं से मिलने वाले लाभ के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि कैसे उनके ह्रदय और घुटनों के ऑपरेशन में आने वाला खर्च कम हो गया। गुजरात के छोटा उदयपुर से रुखसाना बेन का कहना था कि केन्द्र सरकार की योजना से अब नियमित रूप से डायलिसिस कराना आसान हो गया है। लाभार्थियों से बातचीत के बाद प्रधानमंत्री ने कहा कि यह मिशन देश में स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर करने में केन्द्रीय भूमिका निभा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here