वेतन वृद्धि की मांग को लेकर दूसरे दिन भी बैंक कर्मियों की हड़ताल

0
148

कानपुर, 31 मई । वेतन वृद्धि सहित अन्य सुविधाओं की मांग को लेकर बैंक कर्मियों की दो दिवसीय हड़ताल तो गुरुवार से खत्म हो गयी। लेकिन अब तक बैंक कर्मियों के प्रदर्शन का कोई असर होता दिखाई नहीं दे रहा है। बैंक कर्मचारियों ने कहा कि अगर फिलहाल वो दो दिन की हड़ताल समाप्त कर रहें है। लेकिन अगर उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो बैंक कर्मी आने वाले दिनों में अनिश्चितकालीन हड़ताल के लिए विवश होंगे। वहीं दो दिन की हड़ताल से अब तक अरबों रुपए का लेन देन प्रभावित हो चुका है।

बैंक कर्मचारियों ने हड़ताल के दूसरे दिन केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि अगर उनकी वेतन वृद्धि की मांगों को पूरा नहीं किया गया तो बैंक कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे। इलाहाबाद और एसबीआई जैसी प्रमुख बैंकों के साथ ही ज्यादातर सरकारी बैंकों के करीब पांच हजार कर्मचारियों ने दो प्रतिशत वेतन वृद्धि के प्रस्ताव को निंदनीय बताया।

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के मंत्री सुधीर सोनकर ने सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाते हुए बैंक कर्मियों ने कहा कि सरकारी कर्मचारियों की तुलना में उनका वेतन सबसे कम है। बताते चलें कि वेतन वृद्धि की मांग को लेकर बैंक कर्मचारियों नें दो दिन की हड़ताल का ऐलान किया था। हड़ताल के पहले व दूसरे दिन बैंक कर्मियों ने धरना प्रदर्शन करते हुए केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। सरकार पर बैंक कर्मियों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए पदाधिकारी नगर सह संयोजक विजय अवस्थी, प्रवीण मिश्रा, रजनीश गुप्ता, संजय त्रिवेदी, अनिल सोनकर आदि ने कहा कि सरकार उनकी भावनाओं से खिलवाड़ करते हुए उनकी वेतन वृद्धि की मांग को अनदेखा कर रही है।

सरकार से जल्द से जल्द वेतन समझौता लागू करने की मांग रखते हुए पदाधिकारियों ने दो प्रतिशत की वेतन वृद्धि की निंदा की। कर्मचारियों ने कहा कि सरकार बड़ी योजनाओं को पूरा कराने के लिए बैंक कर्मियों व अधिकारियों को ही चुनती है। लेकिन वेतन के नाम पर उन्हे अन्य सरकारी कर्मचारियों से कम वेतन दिया जाता है। उन्होंने कहा कि अगर आने वाले समय में उनकी मांगें पूरी न हुई तो बैंक कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल को मजबूर होंगे। इस दौरान कई जगहों पर बैंक कर्मियों ने अपनी मांगों को लेकर पैदल मार्च भी किया और अपने-अपने बैंकों के बाहर कैंप लगाकर अपनी भड़ास निकाली।

चार-पांच दिनों में होगी सामान्य स्थित
वहीं दो दिन की हड़ताल से आम जनता को भी परेशानियों का सामना करना पड़ा है। दो दिन में अरबों का लेन देन भी प्रभावित हुआ है। कर्मचारियों का कहना है कि दो दिन की हड़ताल से उनके ऊपर वर्क लोड बढ़ेगा जो कि आने वाले चार से पांच दिनों में सामान्य हो पाएगा। ऐसे में अभी जनता को चार से पांच दिन तक परेशानियां उठानी पड़ सकती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here