लू के थपेड़ों ने जीना किया दुश्वार, पारा 41 डिग्री के पार

0
45

कानपुर, 20 मई। सूरज की आग उगलती किरणों के चलते रविवार को पारा 41 डिग्री सेल्सियस के पार बना रहा। साथ ही वातावरण में शुष्क हवाओं के चलते शहरवासियों का जीना दुश्वार हो गया। लोग भीषण लू से बचने के लिए घरों में दुबकने को मजबूर हो गये। आलम यह रहा कि दोपहर में शहर की सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। तो वहीं मौसम विज्ञानियों का कहना है कि पारे में हुई बढ़ोत्तरी से कम वायुदाब का क्षेत्र बन गया है। जिससे एक बार फिर मौसम में बदलाव की संभावना है और तेज आंधी व छिटपुट बारिश भी हो सकती है।

चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डा. अनिरूद्ध दुबे ने बताया कि कल की अपेक्षा रविवार को तापमान में काफी अंतर रहा। वातावरण में नमी की भारी कमी बनी रही। हालांकि शनिवार को देर शाम तेज हवाओं के चलने से रविवार को सुबह मौसम काफी हद तक सही रहा। लेकिन सूरज की आग उगलती किरणों से कम वायुदाब का क्षेत्र बराबर बना हुआ है। कहा जिस तरह से मौसम की गतिविधियां दिख रहीं है उससे संभावना है कि मौसम में किसी भी समय बदलाव आ सकता है। ऐसे में इन दिनों भीषण धूल भरी आंधी, तूफान, बारिश और बिजली की चमक व गरज बनी रहेगी। जिससे आम जन इन दिनों विशेष सावधानी बरतें और खासतौर पर सांयकाल तो और अधिक, क्योंकि कम वायुदाब के क्षेत्र बनने से शाम को ही अधिक मौसम खराब होने की संभावना रहेगी। ऐसे में लोगों को विशेष सावधानियां बरतनी होगी। खासकर हरे पड़ों से ऐसा मौसम होते ही दूरी बना लेना चाहिये।

डा. दुबे ने बताया कि जहां शनिवार को सुबह 10 बजे तक अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस रहा तो वहीं रविवार को 29 डिग्री। दोपहर तक सूरज के तल्ख तेवर के चलते अधिकतम पारे में बढ़ोत्तरी हो गई और 41.8 डिग्री सेल्सियस जा पहुंचा। जो सामान्य से अधिक है। वहीं न्यूनतम तापमान में भी घटोत्तरी हुई और 25.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। कहा, सुबह की आर्द्रता 10 फीसदी घटकर 52 फीसदी दर्ज की गयी। दोपहर की आर्द्रता में 13 फीसदी की गिरावट हुई और 18 फीसदी दर्ज की गई।

रविवार को हवाओं की दिशाओं में बदलाव हुआ और दक्षिणी पूर्वी की जगह पूर्वी हो गईं, जिनकी रफ्तार दो किलोमीटर प्रति घंटे रही, लेकिन कम वायुदाब के बने क्षेत्र के चलते इनकी रफ्तार में किसी भी समय तेजी से बदलाव आ सकता है। इसके साथ ही न्यूनतम आर्द्रता घटने से वातावरण में बादलों की टकराहट हो सकती है।

जिससे तेज आंधी या तूफान व बारिश के साथ बिजली चमकने की संभावना बनी हुई है। संभवतः देर शाम या रात में मौसम में बदलाव आएगा। कहा कि तापमान बढ़ने के साथ वातावरण में नमी की भारी कमी हो गई, जिसके चलते शुष्क हवाओं से लोग गर्मी से बेहाल हो उठे। उन्होंने लोगों को सलाह दी कि शुष्क हवाओं से बचने के लिए बराबर पानी लेते रहें। जिससे डिहाइड्रेन और हीथ स्ट्रोक से बचा जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here