येदुरप्पा के शपथ पर सड़क पर उतरी कांग्रेस, राज्यपाल की बर्खास्तगी की उठाई मांग

0
146

कानपुर, 18 मई । कर्नाटक में भाजपा नेता बीएस येदुरप्पा के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के खिलाफ देशभर में कांग्रेस के नेता व कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए। इसी कड़ी में कानपुर कांग्रेस कमेटी ने भी शुक्रवार मानव श्रृंखला बनाकर विरोध दर्ज कराया। इसके साथ ही अपर नगर मजिस्ट्रेट प्रथम के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजते हुए मांग की कि कर्नाटक के राज्यपाल ने असंवैधानिक कार्य किया है। जिसके चलते उन्हे तत्काल पद से बर्खास्त किया जाये। हालांकि सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद कांग्रेस को विश्वास है कि वहां पर जेडीएस के साथ मिलकर बहुमत साबित हो जाएगा।

कांग्रेस महानगर कमेटी के अध्यक्ष हर प्रकाश अग्निहोत्री के नेतृत्व में सैकड़ों कांग्रेसियों ने शुक्रवार को कर्नाटक में येदुरप्पा को मुख्यमंत्री की शपथ दिलाये जाने का विरोध किया। मेस्टन रोड स्थित तिलक हाल से सैकड़ों की संख्या में कांग्रेसियों ने एक मानव श्रृंखला बनाकर भाजपा की इस धोखाधड़ी वाली जीत का जमकर विरोध किया।

इस दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और कर्नाटक के राज्यपाल वजूभाई वाला के मुर्दाबाद के नारे भी लगाए। वहीं मानव श्रृंखला बनाते हुए कार्यकर्ता अपने शरीर पर तख्तियां टांगें रहें। जिसमें लिखा हुआ था लोकतंत्र की हत्या बन्द करो, कर्नाटक में विधायकों की खरीद फरोख्त बन्द करो। इस दौरान सभी कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी करते हुए सड़क पर बैठ गए और मोदी, योगी, शाह शर्म करो, शर्म करो के नारे लगाए।

कांग्रेस शहर जिलाध्यक्ष हर प्रकाश अग्निहोत्री ने बताया कि कर्नाटक चुनाव में लोकतंत्र का गला घोंटा गया है उसके लिए राज्यपाल जिम्मेदार हैं। उनके द्वारा गलत तरह से बीजेपी को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करना संविधान का गला घोटना है। जिस तरह इस सरकार ने एक-एक विधायक को 100 करोड़ देकर जो खरीद फरोख्त की है यह संविधान की गरिमा को काफी ठेस पहुंचा है।

आज हम सभी ने एक मनावशृंखला बनाकर कर्नाटक में हुई असंवैधानिक जीत का विरोध किया है और एसीएम प्रथम केपी तोमर के माध्यम से राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन देते हुए कर्नाटक राज्यपाल को बर्खास्त करने की मांग की है। इस दौरान पूर्व विधायक शंकर दत्त मिश्र, इकबाल अहमद, कृपेश त्रिपाठी, नौशाद आलम अंसारी, सतीश दीक्षित, सरिता सेंगर, मेवालाल कठेरिया, भानुप्रताप सिंह व संतोष पाठक आदि मौजूद रहें।

संविधान की हत्या कर भाजपा को मिला आमंत्रण
नगर अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस-जेडीएस राज्य में सरकार बनाने का दावा किया था और जेडीएस नेता कुमारस्वामी ने कांग्रेस विधायकों के समर्थन से 222 सदस्यों की विधानसभा मे 116 विधायकों का समर्थन पेश किया था। इसके बावजूद राज्यपाल ने उन्हें सरकार गठन के लिए न्योता नहीं दिया, जबकि 104 विधायकों वाली भाजपा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित कर लिया। कहा जिस तरह से आनन-फानन में येदुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई गई है, यह सरासर संविधान की हत्या है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद येदुरप्पा को 24 घंटे के अंदर बहुमत साबित करना है। जिसमें कोर्ट की तमाम बंदिशें भी हैं। जिसके चलते कांग्रेस को अब भरोसा है कि जेडीएस और कांग्रेस की कर्नाटक में सरकार बन जाएगी।

आसान नहीं होगा बहुमत हासिल करना
गौरतलब है कि बीजेपी ने 104 सीटों पर जीत हासिल की है और ऐसे में सप्रीम कोर्ट द्वारा दिये गये निश्चित समय में 112 विधायकों का समर्थन इतने कम समय में आसान नहीं होगा। येदियुरप्पा अगर अपना बहुमत नहीं सिद्ध कर पाये तो उन्हें 24 घंटे के भीतर ही मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़नी पड़ सकती है।

सद्बुद्धि के लिए हुआ हवन
कर्नाटक चुनाव तो खत्म हो गए लेकिन अभी भी सरकार बनाने को लेकर आरोप प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है और कांग्रेस पार्टी ने पूरे देश मे लोकतंत्र बचाओ दिवस मना रही है। इसी के तहत कानपुर में लोकतंत्र बचाओ का नारा दे कांग्रेसियों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की सद्बुद्धि के लिए हवन किया।

कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने हवन पूजन कर संविनधान निर्माता डा. भीमराव राम जी अंबेडकर यानि बाबा साहब के द्वारा लिखित संविधान को बीजेपी पार्टी से बचाने की प्रार्थना कर हवन किया। पीसीसी सदस्य सुनील बाल्मीकि ने कहा कि भाजपा लोकतंत्र में विश्वास नहीं करती है। इसीलिए संवैधानिक व्यवस्था पर भारतीय जनता पार्टी के लोग लगातार हमले कर रही है। जिसका विरोध कांग्रेस जनता के हितों को देखते हुए बराबर करती रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here