कानपुर : 40 चोरी के सरगना पति-पत्नी व सुनार समेत पांच को पुलिस ने किया गिरफ्तार

0
455

-अभियुक्तों के कब्जे से आधा किलो सोना, 15 किलो चांदी के आभूषण के साथ पिस्टल, तमंचा, कारतूस व चोरी की बाइकें बरामद
-अभियुक्तों से बरामद जेवरात की बाजार में लगभग 25 लाख कीमत बताई जा रही
कानपुर, 16 मई । उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में नौबस्ता थाना पुलिस को अन्तरराज्यीय चोर व लूटपाट गिरोह के पांच शातिर अभियुक्तों को पकड़ने में कामयाबी मिली है। गिरफ्तार होने वाले अभियुक्तों में गिरोह के 40 चोरी व लूटपाट करने वाले सरगना को उसकी पत्नी, साथी व दो चोरी का माल खरीदने वाले सर्राफा दुकानदार शामिल हैं। अभियुक्तों के कब्जे से सोने-चांदी के आभूषण, नकदी, असलहें, कारतूस व चोरी की बाइकों के साथ अन्य माल मिला है।

पुलिस अधीक्षक दक्षिण रवीना त्यागी ने बुधवार को बताया कि, बीती 10 मई को नौबस्ता थाना इलाके में घर में घुस कर लूट और विरोध करने पर पति-पत्नी को मारपीट कर गम्भीर रूप से घायल करने की घटना को अंजाम दिया गया था। वारदात के खुलासे के लिए पुलिस उपाधीक्षक गोविन्द नगर के नेतृत्व में नौबस्ता इंस्पेक्टर संतोष कुमार सिंह के साथ पुलिस की कई टीमों को लगाया गया था।

जांच के दौरान पुलिस के हाथ अहम सबूत लगे और पुलिस ने कड़ी से कड़ी जोड़ते हुए वारदात में बेहद शातिर अपराधियों के होने का पता चला। जिसके बाद टीम ने शातिर किस्म के अपराधी व जनपद में अलग-अलग थानों में 40 मुकदमों में वांछित मूलरूप से ग्वालियर निवासी हाल पता नौबस्ता दासू कुआ मोड़ हमीरपुर रोड में रहने वाले अवरेन्द्र रजक उर्फ बासू, उसकी पत्नी पूजा उर्फ प्रीती, साथी मनोज व चकेरी निवासी सुनार आकाश वर्मा व नौबस्ता निवासी संजय वर्मा को गिरफ्तार कर लिया।

अभियुक्तों की निशानदेही पर पुलिस ने लूट व चोरी की वारदातों का सोने-चांदी के जेवरात, नकदी, पिस्टल, तमंचा, कई कारतूस, चोरी की दो बाइकें को साथ अन्य माल बरामद कर लिया। पकड़ गये सुनार काफी समय से अभियुक्त अवरेन्द्र के सम्पर्क थे और चोरी का माल कम दामों में खरीदते थे। पूछताछ में पुलिस को गिरोह के दो अन्य साथी रामू व राजू निवासी ग्वालियर का पता चला है। जिनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीमें लगी है। फिलहाल गिरफ्तार पांचों अभियुक्तों पर पुलिस मुकदमा दर्ज कर जेल भेज रही है।

वारदात करने का तरीका
एसपी दक्षिण ने बताया कि गिरोह का सरगना अवरेन्द्र जनपद में किराये का मकान लेकर पत्नी पूजा के साथ रहता है। पूछताछ में पता चला है कि अरवेन्द्र पूरे दिन घर में रहता था और रात को 11 बजे घर से अकेला निकल जाता था। चोरी व लूटपाट की घटनाएं अंजाम देने के बाद सुबह 5 बजे घर वापस आ जाता था। इस दरमियान वो खाली मकानों को अपना निशाना बनता था। उस पर जिले के आधा दर्जन थानों में चोरी की घटनाओं में मुकदमा दर्ज है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here