अखिलेश का योगी सरकार पर तंज, कहा अयोध्या के लिए दिये गये ‘वचनों’ को तो जुमला न बनाएं

0
139

लखनऊ, 12 मई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जहां आज अयोध्या के रामकथा पार्क में जनकपुर-सीतामढ़ी-अयोध्या सीधी बस सेवा का स्वागत किया। वहीं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस मौके पर अयोध्या की उपेक्षा का सवाल उठाया। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘आज अयोध्या के लोग पूछ रहे हैं कि आर्ट गैलरी, परिक्रमा मार्ग के सुदृढ़ीकरण और वृक्षारोपण के लिए बजट क्यों नहीं दिया जा रहा? प्रवेश द्वार, भजन स्थली का काम आज भी अधूरा क्यों है? मंदिरों की रंगाई-पुताई कब होगी ?

अखिलेश ने इसके साथ ही तंज कसा कि कम से कम अयोध्या के लिए दिये गये ‘वचनों’ को तो जुमला न बनाएं। इससे पहले जनकपुर-सीतामढ़ी-अयोध्या सीधी बस बस के आज सुबह अयोध्या पहुंचने रामकथा पार्क में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इसकी अगुवानी की। इस दौरान सीता जी की ससुराल पहुंचने वालों प्रतिनिधियों का भव्य स्वागत किया गया। इस मौके पर अयोध्या और जनकपुर की थीम पर सजायी गई झांकी ने सभी का मन मोह लिया। भारत और नेपाल की दोस्ती की प्रतीक इस बस सेवा का शुभारम्भ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कल शुक्रवार को नेपाल के जनकपुर में किया।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने भारतीय डाक विभाग की ओर से प्रकाशित ’स्पेशल कवर’ का अनावरण भी किया। ये स्पेशल कवर पिछले साल दीपावली के मौके पर अयोध्या में सरयू तट पर आयोजित ’दीपोत्सव’ कार्यक्रम पर आधारित है। डाक विभाग के इस प्रकाशन का उद्देश्य पावन नगरी अयोध्या की वैश्विक पहचान स्थापित कर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित करना है। इसके साथ ही यह ’दीपोत्सव’ के आयोजन की स्मृतियों को दीर्घकाल तक संरक्षित करने में भी सहायक होगा।

इस बस सेवा के जरिए श्रद्धालु भगवान श्रीराम की जन्मस्थली अयोध्या धाम और माता जानकी की जन्मस्थली जनकपुर धाम के बीच की 520 किलोमीटर की दूरी को सरलता और सुविधापूर्ण ढंग से तय कर सकेंगे। बस सेवा पड़ोसी देश नेपाल और भारत के पौराणिक समय से चले आ रहे सांस्कृतिक, आध्यात्मिक सम्बन्धों को और अधिक सुदृढ़ बनाने में भी सहायक होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here