अपनी डायरी, जो बन जाती है यादों की झांकी

0
165

कहते हैं गुजरा हुआ दिन दोबारा कभी नहीं आता, लेकिन आप उन बीते हुए दिनों को एक डायरी में संजोकर रख सकते है.

हर शाम सोने से पहले पूरे दिन का ब्‍यौरा एक डायरी में लिखें. अब इन पन्‍नों को पलटनेभर से आप अपने बीते दिनों को फिर से जी सकते हैं. आप बीते हुए दिनों के किस्सों, यादों को बिल्‍कुल नजदीक से स्पर्श कर पाएंगे और एक बार फिर खो जाएंगे उन पुरानी खुबसूरत यादों में.
जिंदगी का रिकॉर्ड-
अपनी पर्सनल डायरी का सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि आपके पास हर चीज का रिकॉर्ड रहता है, अपने दोस्‍तों और जानने वालों से बातचीत के अंश यदि आप डायरी में लिखेंगे, तो आप कभी कोई भी जरुरी बात भूल नहीं पाएंगे.

अकेलापन दूर करने में मददगार-
डायरी आपका अकेलापन दूर करने में काफी मददगार साबित हो सकती है. अगर जिंदगी में कोई दोस्‍त न मिले तो इस डायरी को अपना दोस्त बना लें. यकीन मानिए ये डायरी आपको अवसाद के खतरे से बचा जरूर लेगी.
खुद का आंकलन-
पर्सनल डायरी से आप खुद का आंकलन भी कर सकते हैं. आप अपनी अच्छाई- बुराई को जानकर खुद में जरूरी बदलाव भी कर सकते हैं.
अच्छी नींद-
दिनभर के काम के बाद जब आप रात में अपनी डायरी लिखते हैं, तो ये डायरी आपको कब अपने आगोश में ले लेती है, पता ही नहीं चल पाता.
अच्छी याददाशत-
यदि आप रोज अपनी पर्सनल डायरी मेंटेन करते हैं तो आप अपने दोस्त-परिजनों आदि से जुड़ी महत्वपूर्ण तारीखें जैसे बर्थेडे, एनिवर्सरी या आपके किसी शुभ चिंतक द्वारा दी सलाह नहीं भूलेंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here