कानपुर : हल्की बारिश व तेज हवाओं से मौसम में आया बदलाव

0
252

कानपुर, 30 अप्रैल । गर्म हवाओं के चलते कम वायुदाब का बना क्षेत्र हल्की बारिश व तेज हवाएं लेकर आया, जिससे सोमवार को मौसम पिछलों दिनों की अपेक्षा काफी सुहाना रहा। हालांकि वातावरण में आर्द्रता बढ़ने से व तापमान में बढ़ोत्तरी होने से लोगों को गर्मी से कुछ खास निजात नहीं मिल रही है। फिलहाल इस मौसम से बैसाख की दुपहरी का दिखने वाला रंग जरूर कम हो गया है, जिससे लोगों की दिनचर्या में बहुत ज्यादा अंतर नहीं पड़ रहा है। मौसम विभाग का कहना है कि अभी तीन मई तक इसी तरह का मौसम बना रहेगा।

पिछले कई दिनों से सूरज के तेवर दिन पर दिन तल्ख होते जा रहे थे और उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में चिलचिलाती धूप के साथ गर्म हवा के थपेड़ों से लोगों का बुरा हाल रहा, लेकिन गर्म हवाओं के चलते कम वायुदाब का क्षेत्र बन गया। इससे कहीं ओले तो कहीं हल्की बारिश हुई और मौसम काफी हद तक सुहाना हो गया। यह अलग बात है कि बारिश होने से वातावरण में नमी की मात्रा बढ़ गई और तापमान बढ़ने से लोगों को गर्मी सताती रही, लेकिन पिछलों दिनों की अपेक्षा सोमवार के मौसम में काफी बदलाव देखा गया। इसके साथ ही जहां सुबह आठ बजे से ही धूप के साथ शुष्क हवा लोगों को परेशान कर रही थी तो वहीं आज ठंडी हवाओं ने लोगों को काफी राहत दीं।

न्यूनतम तापमान बढ़ने से सताती रहेगी गर्मी
चन्द्रशेखर आजाद कृषि प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डा. अनिरूद्ध दुबे ने बताया कि बैसाख का समय चल रहा है और सूरज की किरणें सीधे जमीन पर पड़ रही हैं, जिससे कम वायुदाब का क्षेत्र बना और मौसम ने करवट ले ली। बारिश तो ज्यादा नहीं हुई पर ओले व बारिश होने से हवाओं में नमी की मात्रा बढ़ गई, जिससे पिछले दिनों दिखने वाली बैसाख की दुपहरी का रंग काफी फीका रहा।

मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि हवाओं की दिशाएं बदलने से जहां रविवार को सुबह नौ बजे तक 25 डिग्री पारा रहा तो वहीं सोमवार को 28 डिग्री पार कर गया है और दोपहर तक अधिकतम पारा 38 डिग्री पहुंचने की संभावना है। वहीं न्यूनतम तापमान में भी बढ़ोत्तरी की संभावना है और 27 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है। वातावरण में नमी की मात्रा बढ़ रही है जिससे आर्द्रता भी रोजाना बढ़ रही है।

हवाओं की दिशाएं बदलने से आज की सुबह आर्द्रता में बढ़ोत्तरी हुई और 73 फीसदी दर्ज की गई, इसी तरह दोपहर की आर्द्रता 45 फीसदी रहने की संभावना है। इसके साथ ही तेज हवाओं के साथ धूल चलने के कारण राहगीरों को काफी परेशानी महसूस कर रहे हैं। पारे में फिर बढ़ोत्तरी शुरू हो गई है, जिससे तापमान बढ़ने से कम वायुदाब का क्षेत्र बन रहा चुका है और स्थानीय स्तर पर छुटपुट बारिश हो रही है। इसके बावजूद लोगों को गर्मी सताती रहेगी, लेकिन लू लगने की संभावना कम रहेगी।

तीन मई तक बदला रहेगा मौसम
मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि जिस तरह से लगातार तापमान बढ़ रहा है उससे कम वायुदाब क्षेत्र बन रहा है। ऐसे में 28 अप्रैल से लेकर तीन मई तक मौसम में बदलाव रहेगा जो देखा भी जा रहा है। अगले तीन दिनों तक कुछ ज्यादा ही मौसम बदला सा नजर आएगा। इस दौरान धूल भरी आंधी चलेगी और बिजली की गरज व चमक दिखेगी। इसके साथ स्थानीय स्तर पर हल्की बारिश की भी संभावना है।

मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक यह मौसम किसानों के अनुकूल नहीं है। ऐसे में किसान जल्द से जल्द गेहूं की मड़ाई कर लें और भूसे को आंधी से बचाने के लिए पहले से ही व्यवस्था कर लें। ताकि खेतों में पड़ा भूसा हवा में उड़ने से बचाया जा सके। हालांकि ज्यादातर किसानों ने मड़ाई कर ली है पर भूसा अभी भी खेतों में पड़ा हुआ है। इसके साथ ही इन दिनों जब बिजली की गरज व चमक हो तो किसान पेड़ों से दूर रहें। जिससे आकाशीय बिजली के चपेट में आने से बचा जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here