कानपुर (बिधनू): हाइवे पर प्रसूता ने दिया बच्चे को जन्म

0
315

वर्ल्ड खबर एक्सप्रेस न्यूज

कानपुर: बिधनू इलाके में आज बाइक से जा रही प्रसूता ने हाइवे पर बच्चें को जन्म देने के साथ ही सूबे की सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था पर करारा तमाचा मारते हुए जनहित में चलाई जा रही 102 व 108 एम्बुलेंस सेवाओं पर प्रश्नचिन्ह लगा दिया है .

क्या है मामला

NH-34 पर बिधनू इलाके के मगरासा गॉव के ठीक सामने बाइक से समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बिधनू जा रही ओरियारा के रमजीपुरवा निवासी मनोरमा 28 वर्ष पत्नी वीरेंद्र ने 108 एम्बुलेंस न मिलने के चलते हाइवे किनारे ही बच्चे को जन्म दे दिया . कड़ी धूप में हाइवे पर डिलवरी की खबर जैसे ही आशा बहु गीता ने 108 पर दी तब जाकर उसे कहीं एम्बुलेंस मुहैया हो सकी और उसे सीएचसी पहुंचाते हुए डॉक्टरों ने उसका इलाज शुरू किया .

मनोरमा ने हाइवे पर जन्मा तीसरा बच्चा

मनोरमा के पति वीरेंद्र ने बताया कि उसकी पत्नी का ये तीसरा बच्चा है आज सुबह जब उसकी पत्नी के प्रसव पीड़ा शुरू हुआ तब वीरेंद्र ने आशा बहु गीता को बुलाया .जब वीरेंद्र से पूछा गया कि 108 एम्बुलेंस के बजाय बाइक पर प्रसूता को लाने का क्या कारण था तो उसने आशा बहु की तरफ इशारा करते हुए चुप्पी साध ली .

क्या बोली आशा बहु

आशा बहु मनोरमा ने बताया कि उसने घर से 108 एम्बुलेंस के लिए कॉल की थी लेकिन 108 द्वारा 1 घंटे बाद एम्बुलेंस मिलने की बात पर वो बाइक से सीएचसी के लिए आ रही थी और रास्ते में प्रसव हो गया .

जाम न होता तो सायद पहुंच जाती अस्पताल

रमईपुर में लगने वाला जाम दिन पर दिन नासूर बनता जा रहा है आज भी जब मनोरमा अपने पति व आशा बहु के साथ बाइक पर आ रही थी तब भी तकरीबन 2 किलोमीटर का लंबा जाम लगा हुआ था जाम में फंसे लोगों की माने तो जिस समय हाइवे किनारे डिलवरी हुई उसी समय किसी अधिकारी की गाड़िया कानपुर की तरफ से बिधनू जा रही थी और उसी के चलते जल्दी से जाम खुल गया और प्रसूता को जल्द से जल्द एम्बुलेंस मिल सकी .

बिधनू सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्साअधिक्षक एसपी यादव ने बताया कि जच्चा और बच्चा दोनों ही स्वास्थय है अस्पताल पहुंचते ही महिला डॉक्टरों द्वारा उनका तुरन्त इलाज शुरु कर दिया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here