कानपुर: अघोषित बंदी पर सर्तक रहा जिला व पुलिस प्रशासन, चौराहों पर डटे रहे पुलिस कर्मी

0
244

कानपुर, 10 अप्रैल । उत्तर प्रदेश के कानपुर जनपद में अघोषित बंदी को देखते हुए चौराहों व बाजारों के साथ सार्वजनिक स्थानों व अम्बेडकर मूर्ति के पास पुलिस मुस्तैद रही। चौकसी का आलम यह रहा कि बसों व बाजारों में घूमकर पुलिस बाहर से आने-जाने वालों पर निगरानी करती रही। पुलिस की सक्रियता के चलते ही जनपद में कहीं भी किसी तरह की हिंसक या उपद्रव की घटनाएं सामने नहीं आई।

भारत बंद के दौरान कानपुर जिले में मंगलवार को बंद का कोई असर नहीं दिखा। बीते दो अप्रैल में बंदी के दौरान प्रदेश के कई जनपदों में हिसंक झड़पें व उपद्रव की घटनाओं से जिले के प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों ने सबक लेते हुए पुख्ता बंदोबस्त के इंतजाम किये गये थे। सुबह से ही सड़कां पर उतरी भारी पुलिस बल ने शहर के सभी प्रमुख चौराहों और अम्बेडकर प्रतिमाओं की सुरक्षा बढ़ाने के साथ प्रदर्शन कारियों की गिरफ्तारी लिए के लिए कमर कस रखी थी। आईजी रेंज आलोक सिंह व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अखिलेश कुमार की क्राइम ब्रांच और स्वाट टीम भी बंदी को लेकर प्रदर्शन करने वाले से निपटने को तैयार दिखी। पुलिस की मुस्तैदी को देख कानपुर के ज्यदातर मार्केट खुल रहे और राहगीरों को भी कोई परेशानी नहीं झेलने पड़ी।

बीट आरक्षियों ने संभाली मूर्तियों की सुरक्षा
शहर में अम्बेडकर मूर्तियों के साथ ही सार्वजनिक स्थानों पर लगी अन्य महापुरूषों की मूर्ति स्थलों पर थाने में तैनात बीट पुलिस को सुरक्षा की जिम्मेदारी दी गई थी। एसएसपी ने बीट पुलिस कर्मियों ने सख्त निर्देश दिये थे कि किसी भी हाल में मूर्तियों के आसपास उपद्रवी न पहुंचने पाये व उन्हें नुकसान पहुंचा सके।

मिश्रित आबादी वाले क्षेत्रों में होती रही गश्त
संवेदनशील क्षेत्रों में अपर पुलिस अधीक्षक व पुलिस उपाधीक्षक अपने क्षेत्रों में गश्त करते रहें। उपद्रवियों पर नजर रखने के लिए नागरिक सुरक्षा कोर (सिविल डिफेंस) व एसपीओ जिले के शहरी क्षेत्र व ग्रामीण इलाकों में लेखपाल, सचिव, प्रधान व कोटेदार को जिम्मेदारी सौंपी गई थी। पुलिस का खुफिया विभाग व सर्विलांस व साइबर सेल सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों पर भी पैनी नजर बनाये रहा।

जुलूस-प्रदर्शन पर लगी रोक
अघोषित बंदी को लेकर शहर में एहतियातन पुलिस बल के साथ खुफिया भी सर्तक रहा। इस दौरान धारा 144 लागू होने के चलते बिना परमीशन जुलूस निकालने, जबरन दुकान बंद कराने व किसी भी तरह से कानून व्यवस्था को चोट पहुंचाने की कोशिश करने वालों उपद्रवियों से सख्ती से निपटने के लिए पुलिस तैयार दिखी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here