उन्नाव के भाजपा विधायक पर रेप का आरोप, सीएम आवास के सामने पीड़ित परिवार ने किया आत्मदाह का प्रयास

0
365

भाजपा विधायक पर लगाया नाबालिग से दुष्कर्म का आरोप
लखनऊ, 08 मार्च । उन्नाव से भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर नाबालिग बेटी के साथ गैंगरेप का आरोप लगा है। पुलिस-प्रशासन से न्याय नहीं मिलने पर रविवार को पीड़िता अपने परिवार के साथ आत्मदाह के लिए मुख्यमंत्री आवास के सामने पहुंच गई। पुलिस पूरे परिवार को हिरासत में लेकर थाने ले आयी तो परिवार ने यहां जमकर हंगामा किया। इस पर एडीजी ने मामले को गंभीरता से लेकर जांच के आदेश एसपी उन्नाव को दिये हैं।


मूलरूप से उन्नाव जिले की सराय गांव की महिला अपने परिवार के साथ रविवार को पांच कालीदास मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास के सामने पहुंची। वह केरोसीन डालकर खुद को आग लगाने वाले थी कि सीएम की सुरक्षा में मुस्तैद पुलिसकर्मियों ने महिला को पकड़ लिया और गौतमपल्ली पुलिस के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने पूरे परिवार को हिरासत में लेकर थाने आयी। वहीं, पुलिस से न्याय नहीं मिलने पर पीड़िता ने थाने में जमकर हंगामा किया। महिला को शांत कराने के लिए महिला पुलिस कर्मियों को बुलाया गया। काफी हंगामे के बाद पीड़ित महिला एडीजी के आश्वासन पर शांत हुई।
एडीजी अभय कुमार से न्याय की गुहार लगाते हुए पीड़िता ने प्रार्थना पत्र दिया, जिसमें उसने आरोप लगाते हुए कहा कि कहा कि भाजपा विधायक कुलदीप सिंह ने शशी सिंह के सहयोग से उसकी नाबालिग बेटी के साथ दरिंदगी की। घटना को लेकर जब आरोपियों के खिलाफ थाने में मुकदमा दर्ज कराने के लिए पहुंची तो सत्ता की हनक दिखाकर विधायक ने मुकदमा दर्ज नहीं होने दिया। इसके बाद मामले में समझौते का दबाव बनाने लगे। पीड़िता ने उनकी बात नहीं सुनी तो विधायक ने परिवार पर झूठा मुकदमा दर्ज करवा दिया।



आरोप यह है कि मुकदमे में लगातार समझौते का दबाव बना रहे विधायक के भाई जयदीप सिंह अपने छह-सात साथियों के साथ 03 अप्रैल की रात उसके घर पर आ धमका। जब पति ने इसका विरोध किया गया तो सभी लोगों ने उन्हें पकड़कर एक पेड़ में बांधकर बहुत पीटा। बेटियों ने इसका विरोध किया उनके के साथ छेड़छाड़ भी की गयी। इसका भी मुकदमा पुलिस ने नहीं दर्ज किया। न्याय की आस लेकर वह रविवार को सीएम आवास पहुंची थी, सुरक्षा में तैनात पुलिस ने मुख्यमंत्री से मिलने नहीं दिया तो वह परिवार संग आत्मदाह करने लगी।
एडीजी ने मामले को गंभीरता से लेकर जांच के आदेश एसपी उन्नाव पुष्पांजलि को दिये हैं। उन्होंने पुलिस द्वारा पूरा न्याय करने की बात कहकर पीड़ित परिवार को आश्वस्त किया है।


इस सम्बन्ध में विधायक कुलदीप सिंह ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि महिला के आरोप निराधार हैं। बल्कि उसके पति और देवर दोनों ही आपराधिक प्रवृत्ति के हैं। इनके के खिलाफ आपराधिक मुकदमा दर्ज है। बीते तीन अप्रैल को पड़ोसी से हुए विवाद को तूल देकर बेवजह बदनाम करने के लिए यह षड्यन्त्र महिला द्वारा रचा गया है। इसमें गांव के विपक्षी लोगों का हाथ है। साथ ही उन्होंने कहा कि पुलिस इसकी निष्पक्ष जांच करें और जो भी सच्चाई है वो सबके सामने लाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here