कानपुर :विश्वविद्यालय के छात्रों ने निकाला कैंडिल मार्च, छात्रा के आरोपियों को हो फांसी

0
87

कानपुर, 03 अप्रैल । शोहदों से तंग आकर विश्वविद्यालय की छात्रा ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। जिसके बाद हरकत में आए पुलिस अधिकारियों ने इंस्पेक्टर सहित चौकी प्रभारी पर गाज गिरा दी। लेकिन मंगलवार को विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं ने शोहदों सहित मामले की लीपापोती करने वाले जिम्मेदार पुलिस कर्मियों को फांसी देने की मांग की। इसके साथ ही कैंडिल मार्च निकाल छात्रा की आत्मा की शांति के लिए दुआ की गई।

कल्यानपुर थानाक्षेत्र आदर्श नगर में रहने वाले डा. दिनेश चन्द्र शर्मा की बेटी एश्वर्या शर्मा छत्रपति साहू जी महाराज विश्वविद्यालय में बीसीए द्वितीय वर्ष की छात्रा थी। छात्रा को करीब दो माह से साथ में पढ़ने वाले युवक उस पर दोस्ती करने का दवाब बना रहे थे। जिसकी शिकायत छात्रा ने विश्वविद्यालय से की और परिजनों को जानकारी दी। जिसके बाद परिजनों ने चौकी इंचार्ज और इंस्पेक्टर को पूरी मामले से अवगत करा कार्रवाई की मांग की। लेकिन परिजनों के मुताबिक पुलिस शोहदों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की और उल्टा समझौते का दबाव बनाने लगी। जिससे छात्रा की हिम्मत जवाब दे गई और उसने सोमवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली।

जिसके बाद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अखिलेश कुमार मीणा ने इंस्पेक्टर समीर सिंह, चौकी इंचार्ज अजय सिंह और तीन पुलिस कर्मियों को लाइन हाजिर करके सीओ को मामले की जांच सौंप दी। पुलिस की इस तरह की उदासीनता को लेकर मंगलवार को विश्वविद्यालय के सैकड़ों छात्र-छात्राओं ने विश्वविद्यालय कैम्पस में दो मिनट मौन होकर मृतक छात्रा की आत्मा को शांति प्रदान करने की प्रार्थना की। इसके बाद कैंडिल मार्च निकाला और पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। छात्र-छात्राओं ने कहा कि पूरे मामले की जांच खुद कप्तान करें जिससे शोहदों सहित मामले की लीपापोती करने वाले पुलिस कर्मियों को फांसी की सजा हो सके।

छात्रा आरती सिंह ने बताया कि योगी जी ने शोहदों पर लगाम लगाने के लिए एंटी रोमियों स्क्वायड बनाया था। लेकिन वह दिखते नहीं है। जिसकी वजह से सड़कों पर चलने पर काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। छात्रा कोमल जायसवाल ने बताया कि कालेज आते-जाते समय चौराहे व सड़कों पर शोहदों का झुंड लगा रहता है। जिसकी वजह से घर से कालेज जाने में भी डर लगता है। दीप्ती सिंह ने बताया कि एश्वर्या को परेशान करने वाले शोहदों पर जब तक सजा नहीं मिलेगी तब तक यह विरोध चलता रहेगा। छात्रों के विरोध प्रदर्शन को देख पुलिस भी पैनी नजर बनाए रखी और विश्विद्यालय में भारी फोर्स तैनात रहा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here