अयोध्या: 17 मिनिट में गिरी बाबरी- २६ साल बीत चुके नहीं बना राम मंदिर….!

0
35

Editorial : 6 दिसम्बर १९९२ के दिन भाजपा और शिवसेना ने मिलकर अयोध्या में विवादित बाबरी का ढांचा ढहा दिया था। शिवसेना के एक नेता ने हाल ही इस बात का खुलासा किया की उनका कार्यकताओं ने 17 मिनिट में बाबरी का ढांचा तोड़ दिया था।

लेकिन उस जगह पर राम मंदीर 17 साल तो क्या २६ साल होने को है अब तक मंदिर निर्माण की एक ईंट तक नहीं रखी गई। हालांकि भाजपा और शिवसेना सहयोगी के साथ एक दुसरे के खिलाफ भी है। शिवसेना के उद्धव ठाकरे ने अपने हजारो शिवसैनिको के साथ अयोध्या में जाकर भाजपा ओर प्रधानमंत्री मोदीजी की सरकार को ललकारा की मंदिर यही बनायेंगे तारीख बताये…!

२६ साल में एक भी तारीख तय नहीं कर पाई भाजपा। सरयू नदी में न जाने कितना पानी बह गया। रामलल्ला को तम्बू के मंदिर में बैठे २६ साल हो गये। आँखे तरस गई की अब भाजपाई नेतागण ईंट सीमेंट समेत आयेंगें और मंदिर वहीं बनायेंगे..का नारा संपन्न करेंगे। इस बार फिर से राम मंदिर की धून सवार है भाजपा और संघ परिवार पर। गावं गावं शहर शहर धर्म सभा हो रही है राम मंदिर के लिए।

देश का राष्ट्रपति संघ परिवार का, प्रधानमंत्री संघी है, यूपी में सीएम भाजपा के है, पूरा प्रशासन आपके हाथ आपके साथ है, पुलिस आपकी है, सेना पर आपके चार हाथ है, ज्यादातर मिडिया आपके साथ है फिर राम मंदिर के लिए फिर से धर्म संसद या धर्म सभा किस लिए..? कौन रोकेंगे भाजपा-संघ परिवार और शिवसेना को मंदिर निर्माण के लिए..? देर किस बात की…?

राम मंदिर के लिए विशेष कानून बनाना कोई बड़ी बात नहीं। अब तो कोंग्रेस और राहुल गांधी भी मंदिर मंदिर घूम रहे हाउ कौउल ब्राह्मण दतात्रेय गोत्र के साथ। इसलिए पहले की तरह कोंग्रेस कोई विरोध नहीं करेंगी। रही बात छोटी छोटी पार्टियो की तो वे कितना विरोध करेंगे…? मुस्लिम महिलाए भी भाजपा के साथ है। तो फिर शुभ कार्य में देर किस बात की…? माहोल बिगाड़ने की क्या आवश्यकता है..?

कई 6 दिसंबर आई और गई। बाबरी को याद करेंगे लेकिन मंदिर को नहीं। भाजपाजी, ऐसा मौका बार नहीं आता। लोहा गरम है मार दो हथोडा…..जय श्री राम कह कर। संसद कानून बनाएंगी तो न्यालय भी उसे नहीं रोक सकती। इसलिए २६ साल से टेंट में बिराजमान राम लल्ला को वह से उठा कर भव्य और दिव्य मंदिर में बिठा करोडो लोगो की आश्था को परिपूर्ण करने के लिए न्यायालय में केस का निपटारा हो उससे पहले राम मंदिर बने और ये तारीख नहीं बताएँगे..

वाला मामला भी खत्म करे भाजपा। भाजपा जी राम के नाम का बहोत राजनितिक उपयोग हो गया। अब नहीं। अब तो बस मंदिर बने। चाहे उसमे दर्शन करने राहुल आये या रहीम मंदिर के द्वार सब के लिए खुल्ले

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here