हनुमान जयंती पर मंदिरों में उमड़ी भक्तों की भीड़, चालीसा पढ़ चखा भण्डारा

0
272

कानपुर, 31 मार्च । नौ साल बाद अष्टसिद्धि और नौ निधियों के प्रदाता हनुमान जी का जन्मोत्सव शनिवार को पड़ा। इसके साथ ही ज्योतिष के अनुसार कई मंगलकारी योग बन रहे हैं। जिसके चलते कानपुर के सभी हनुमान मंदिरों में सुबह से ही भक्तों का ताता लगना शुरू हो गया। भक्त मंदिर में हनुमान चालीसा का पढ बाहर चल रहे भण्डारों में प्रसाद को चखा। ज्योतिषाचार्यो के अनुसार शनिवार को ही मंगल और शनि धनु राशि में हैं। शनि और मंगल का विशेष द्विग्रही योग बन रहा है। हस्त नक्षत्र भी है। काफी समय बाद मार्च के माह में ही हनुमान जयंती पड़ रही है। चूंकि इस नवसंवत्सर के राजा सूर्य और मंत्री शनि हैं, इसलिए इस बार की हनुमान जयंती खास है।

‘जय जय जय बजरंगी बली..’ हनुमान की जयंती पर शनिवार को शहर के हनुमान मंदिरों में दिन भर खूब जयकारा लगा। कड़ी धूप में नंगे पांव लाइन में लगे भक्तों ने बाबा बजरंग बली को लड्डू, पुए और फलों का भोग लगाया। जगह-जगह आरती और भजन संध्या के साथ कीर्तन किया गया। मंदिरों में भक्तों ने हनुमान चालीसा पढ़ा और बाहर बंदरों को गुड़-चना अर्पित किया। शहर के सभी प्रमुख मंदिरों पनकी, दक्षिणेश्वर, सालासर बालाजी दरबार के अलावा अन्य हनुमान मंदिरों में सुबह से शुरू हुआ पूजन-अर्चन देर रात तक चलेगा। इस मौके पर भक्तों ने परिवार की सुख-समृद्धि के लिए अंजनी पुत्र से मंगल कामना की।

कई जगह हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ हुआ। कई जगह भंडारों में भक्तों को प्रसाद बांटा गया। शहर के प्रमुख मंदिर पनकी के श्री हनुमान मंदिर में दिन भर भक्तों की भीड़ रही। सुबह हनुमान जी की पूजा अर्चना के बाद भव्य शृंगार किया गया। मंदिर के महंत जितेंद्र दास ने भक्तों संग बजरंगबली की आरती की। भोर से ही बाबा के दर्शन के लिए भक्तों की लाइन लग गई।

दरबार के पट खुलते ही जय-जय हनुमान गोसाई, कृपा करो महाराज, बोलो बजरंग बली की जय…जैसे उद्घोष गूंजने लगे। यहां भक्तों की भारी भीड़ जुटी। भक्तों ने घंटों लाइन में लगकर अपनी बारी का इंतजार किया। पूजन-अर्चन का सिलसिला रात तक चलता रहेगा। इस मौके पर 501 किलो लड्डुओं से बाबा का भोग भी लगाया गया। दोपहर को सुंदरकांड में बड़ी संख्या में भक्तों ने भाग लिया। शाम को बाबा के पावन भजनों को भक्त सुनेगें। पनकी हनुमान मंदिर में 151 किलो का केक काटकर मारुतिनंदन का जन्मदिन मनाया गया।

भजन से भक्तिमय हुए भक्त
बिठूर स्थित मानस मंच केंद्रीय समिति के मुख्यालय पर हनुमान जयंती मनाई गई। कार्यक्रम में समिति के केंद्रीय अध्यक्ष आचार्य रघुराज अवस्थी ने कहा कि कर्म को प्रभु सेवा में लगाना भी भक्ति है। ओम शुक्ला ने भजन प्रस्तुत कर लोगों का मन मोह लिया। छावनी स्थित सत्ती चौरा श्री बालाजी मंदिर में कोलकाता से आए भजन गायक दीपक ने संकट मोचन संकट काटो…, मां अंजनी के लाल थोड़ा ध्यान दीजिए.. जैसे भावपूर्ण भक्ति गीत गाकर समा बांध दिया।

उधर, बर्रा-6 स्थित हनुमान मंदिर में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने हनुमान जयंती के पर बूंदी का वितरण किया। इसी तरह श्री बालाजी सेवा संस्थान ने गोकुल प्रसाद धर्मशाला सरसैया घाट में हवन पूजन कर महाआरती और भंडारे का आयोजन किया। कार्यक्रम में वाराणसी के पंडित रामवीर उपाध्याय और अवधेश शास्त्री संग 11 पंडितों ने आहुति देकर जयकारा लगाया। इसके साथ ही हनुमान जयंती पर कई जगहों पर सुंदर कांड भी हुआ। श्री बाला जी मंदिर, नेहरू नगर में जवाबी कीर्तन आकर्षण का केंद्र बना। संतोष राही और गुड़िया भारतीय की टीम ने जवाबी कीर्तन में गीतों का ऐसा सिलसिला शुरू किया कि भक्त सुधबुध खो बैठे।

ध्वज लेकर निकली शोभा यात्रा
किदवई नगर स्थित सोंटेवाले बाबा हनुमान मंदिर में सुबह से ही भक्तों की भीड़ दर्शन करने को उमड़ पड़ी। मंदिर के पट खुलते ही भक्तों ने लाइन में लगकर बजरंगबली बाबा के दर्शन किए और मनोकामना मांगी। मंदिर के पुजारी दया नारायण शुक्ल ने बताया कि हनुमान जन्मोत्सव पर महंत रमेशचंद बाजपेई के नेतृत्व में बजरंग बली का शृंगार किया गया। इसके बाद सुंदरकांड का पाठ हुआ। यहां से भक्तों ने हाथों में जय श्रीराम के नाम का ध्वज लेकर शोभायात्रा निकाली। यह किदवई नगर चौराहे, हनुमान मंदिर, बारादेवी से होते हुए जूही डिपो पहुंची।

इस दौरान भक्तों ने बजरंग बली के उदघोष से हर चौराहा गूंज रहा था। वहीं गोविंद नगर, बर्रा, नौबस्ता, यशोदा नगर समेत कई इलाकों से भी हनुमान जन्मोत्सव पर शोभायात्रा निकाली गई। ज्योतिषाचार्य पंडित रामऔतार पाण्डेय ने बताया कि इस बार शनिवार को हनुमान जयंती पूरे देश भर में मनाई जा रही है। खास बात यह है कि शनिवार और मंगलवार दोनों ही हनुमान जी की पूजा के उपयुक्त दिन हैं। इस दिन बंजरंग बली की पूजा से सभी प्रकार के भय और कष्टों से मुक्ति मिलती है। कहा कि इस बार हनुमान जयंती पर कई ग्रहों का योग बन रहा है जिससे हनुमान पूजन से भक्तों के सभी दुखों का निवारण हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here