धर्म के नाम पर उन्माद पैदा करना था पूर्व की सरकारों का काम-योगी

0
138

गाजियाबाद, 30 मार्च । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज यहां देश की सबसे लम्बी छह लेन वाले एलिवेटेड रोड का उद्घाटन करने के मौके पर पूर्ववर्ती सरकारों पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कविनगर स्थित रामलीला ग्राउंड पर जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों में विकास कार्यों को रोका गया। वर्तमान सरकार समाज के सबसे आखिरी व्यक्ति तक विकास पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है।

योगी आदित्यनाथ ने इस मौके पर गाजियाबाद वासियों को जिले के शत-प्रतिशत घरों का ’सौभाग्य योजना’ के तहत विद्युतीकरण होने पर बधाई दी। जिले में कनेक्शन से वंचित रहे सभी 7,21,026 घरों में अब बिजली पहुंच चुकी है। अप्रैल 2017 से जनवरी 2018 तक विशेष अभियान के तहत 80 हजार घरों को कनेक्शन दिए गए। मुख्यमंत्री ने इसके लिए प्रशासन को बधाई दी। उन्होंने कहा कि पूर्व की सरकार गरीबों के नाम की दुहाई देकर सिर्फ उन्हें ठगती आ रही थी, लेकिन भाजपा की सरकार आने के बाद अब हर घर तक बिजली का कनेक्शन पहुंचाने का काम किया जा रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके साथ ही प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीब बेघरों को आवास मुहैया कराये जा रहे हैं। गरीब और वंचितों को आवास देने के लिए जो काम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की केन्द्र सरकार ने किया है, वह पूर्व की किसी सरकार ने कभी नहीं किया। महज एक साल में आठ लाख से ज्यादा लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत अपना आवास दिया गया है। 

उन्होंने कहा कि इसके अलावा जिन गरीबों के घर में आज तक चूल्हा तक नहीं जला था, वहां प्रधानमंत्री ने घर-घर तक गैस पहुंचाने का काम किया। उन्होंने प्रदेश में पूर्ववर्ती सरकारों पर हमलावर होते हुए कहा कि पिछले सरकारें दंगाइयों को सम्मानित करती थीं और पीड़ितों को जेल में भेजती थी, इसीलिए प्रदेश में जंगलराज का माहौल हो गया था, जबकि वर्ममान प्रदेश सरकार का सुशासन ही है कि पिछले एक साल में एक भी दंगा नहीं हुआ। जातिवाद फैलाना, जाति के नाम पर लोगों को बांटना और धर्म के नाम पर उन्माद पैदा करना ही पूर्व की सरकारों का काम था। असामाजिक तत्वों को बसाना, गलत तरीके से सभी काम कराना और दंगे भड़काना पुरानी सरकारों का उद्देश्य था।

उन्होंने प्रदेश में बेसिक शिक्षा के क्षेत्र में सुधार कार्यों का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश में स्कूल चलो अभियान चलाया जा रहा है। हर घर से हर बच्चे को बेसिक शिक्षा स्कूल के तक पहुंचाने की पहल की जा रही है। उन्होंने आश्वासन दिया कि जितने बच्चे बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में जाएंगे उनको निशुल्क किताबें, यूनिफार्म और पौष्टिक आहार दिया जायेगा। योगी आदित्यनाथ ने जबकि पिछली सरकार में बेसिक शिक्षा विभाग के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को पौष्टिक आहार नहीं मिलता था। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार जनता के लिए काम कर रही है। जनप्रतिनिधि जनता की बात सुनकर उनके लिए काम कर रहे हैं। 

उन्होंने खुले में शौच से मुक्त होने को लेकर गाजियाबाद, शामली, मुजफ्फरनगर और बिजनौर के लोगों का धन्यवाद भी किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि बहुत जल्द ही हम पूरे उत्तर प्रदेश को खुले में शौच मुक्त करने का काम करेंगे।
योगी आदित्यनाथ ने एलिवेटेड रोड को पिछली सरकारों पर हमलावर होते हुए कहा कि कहने केएलिवेटेड रोड का निर्माण तो शुरू कर दिया गया, लेकिन पर्यावरण, विद्युत सहित अन्य विभागों से एनओसी नहीं ली गई, क्योंकि तब इसी तरह से बिना मंजूरी लिए सब काम हो जाते थे। अब वर्तमान प्रदेश सरकार ने सभी जरूरी मंजूरी लेने के बाद इस एलिवेटेड रोड को पूरा करते हुए जनता को समर्पित किया है।

उन्होंने कहा कि जब मैं एलिवेटेड रोड के दौरे पर गया तो एलिवेटेड रोड पर स्वच्छ भारत और अन्य कई पेंटिंग देखी। बच्चों ने अपनी प्रतिभा दिखाकर एलिवेटेड रोड पर इस तरह की पेंटिंग बनाई उन्हें सम्मानित किया गया है। इसके लिए प्रशासन बधाई का पात्र है। 

विभिन्न परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण 
मुख्यमंत्री ने इस मौके पर जिले में विभिन्न परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण भी किया। इन योजनाओं में 131 करोड़ की लागत की प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मधुबन-बापूधाम आवास योजना में 856 ईडब्ल्यूएस भवनों का निर्माण एवं विकास कार्य, 124 एकीकृत उर्जा विकास योजना, 40 करोड़ को लागत से दिल्ली यमुनोत्री मार्ग से 18 किलोमीटर से दुरी पखजूरी पुश्ता मार्ग का चौड़ीकरण का कार्य, 16.90 करोड़ की लागत से अक्षय कुमार द्वारा डे मील हेतु केंद्रीय किचन धर का निर्माण/ स्थापना, 16.53 करोड़ की लागत से ग्राम सिरोरा सलेमपुर में हिंडन नदी पर आरसीसी पुल का निर्माण, 8 करोड़ की लागत से हिंडन एयर फोर्स स्टेशन से आईटीएस टी पाइंट तक सड़क का सुधार कार्य, 6 करोड़ की लागत से गाजियाबाद शहर के अंतर्गत बनी प्राचीन गेटों का पूरा रेनोगेशन एवं फसाड़ लाइटिंग प्राधिकरण एवं कलेक्ट्रेट भवन के फसाड़ लाइनिंग का कार्य, 5.30 करोड़ की लागत से राजेंद्र नगर में लोहिया पार्क के पास आरसीसी नाली का निर्माण कार्य, 5 करोड़ की इलाहाबाद से सिटी फॉरेस्ट का जीणोद्धार का कार्य और 4800000 रुपए की लागत से नगर पालिका मोदीनगर इलाके में ग्राम बेगमाबाद बुढ़ाना में गौशाला एवं आवारा पशु आश्रय स्थल का निर्माण कार्य आदि शामिल हैं।

इस अवसर पर यहां आयोजित एक कार्यक्रम में विदेश राज्य मंत्री जनरल वी के सिंह, केंद्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री सतपाल सिंह, प्रदेश के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा, परिवहन एवं राज्य मंत्री स्वतन्त्र देव सिंह, खाद्य एवं रसद आपूर्ति राज्य मंत्री अतुल गर्ग तथा कई अन्य नेता भी मौजूद थे।

इससे पहले मुख्यमंत्री के पहुंचने पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने “देखो देखो कौन आया हिंदुओं का शेर आया” के नारे लगाते हुए उनका स्वागत किया। वहीं एलिवेटेड रोड के निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री का काफिला गुजरने पर करहेड़ा में कुछ सपा कार्यकर्ताओं ने काले झंडे भी दिखाएं। पुलिस ने तत्काल इन्हें हिरासत में लिया।

छह लेन एलिवेटेड रोड कई मामलों में है खास
गाजियाबाद विकास प्राधिकरण द्वारा निर्मित छह लेन एलिवेटेड रोड देश की सबसे लम्बी एलिवेटेड रोड है। इसकी लम्बाई 10.30 किमी है। मुख्यमंत्री ने एलिवेटेड रोड पर सफर भी किया। इस एलिवेटेड रोड के खुलने से चन्द मिनटों में ही यूपी गेट से राजनगर पहुंचा जा सकेगा। जिलाधिकारी रितु माहेश्वरी के मुताबिक इस रोड पर यातायात संचालन बेहद सुरक्षित और आनन्दायक होगा। मेरठ, हरिद्वार और देहरादून की तरफ जाने वाले लाखों वाहन चालकों को इसका लाभ मिलेगा। इस सड़क के शुरू होने से शहर को जाम की समस्या से भी निजात मिलेगी। चण्डीगढ़, नोएडा और बेंगलुरु शहर में एलिवेटेड रोड की लम्बाई गाजियाबाद से कम है। 

अनुमान के मुताबिक इस एलिवेटिड रोड से प्रति घण्टा 4,000 वाहन गुजरेंगे। गाजियाबाद से दिल्ली जाने और वापस आने के लिए यह रोड बेहद उपयोगी होगी। एलिवेटिड रोड पर कहीं भी यू-टर्न नहीं रखा गया है। यू-टर्न से हादसे होने का डर रहता है। तीन जगहों पर डिवाइडर स्लैब बनाए गए हैं। एक वसुंधरा से पहले और दो वसुंधरा के बाद हैं। वीवीआइपी के आगमन और जरूरत पड़ने पर डिवाइडर स्लैब को हटाकर यू-टर्न बनाया जा सकता है। आमतौर पर इन्हें बंद रखा जाएगा। वहीं यूपी गेट की तरफ से आने वाले वाहन चालकों को रात में एलिवेटिड रोड डेढ़ किलोमीटर दूर से ही दिखाई पड़ेगा। इस गेट पर रेट्रो रिफ्लेक्टिव हाई क्वॉलिटी शीट्स लगाई गईं हैं, जिन पर गाड़ी की लाइट पड़ते ही यह दिखने लगेंगी। इन शीट्स का रंग गुलाबी और हरा रखा गया है। इसके साथ ही नगर निगम ने एलिवेटेड रोड पर सीसीटीवी कैमरों से लैस सेंसर युक्त कूड़ेदान स्थापित किए हैं। कूड़ा भरने पर सेंसर के जरिए नगर निगम को सूचना मिल जायेगी और सफाईकर्मी कूड़ा उठाने के लिए पहुंचेंगे। इसके अलावा इन पर लगे सीसीटीवी कैमरों के जरिए एलिवेटेड रोड पर यातायात नियम तोड़ने वालों को पकड़ा जा सकेगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निरीक्षण के बाद एलिवेटेड रोड को वाहनों के लिए खोल दिया गया। 

उधर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस छह लेन एलिवेटेड रोड को लेकर प्रदेश सरकार पर तंज कसा है। उन्होंने ट्वीट किया ‘’राम राम जपना पराया काम अपना।’‘ वहीं पार्टी की मीडिया सेल की ओर ट्विटर पर कहा गया, ‘‘ग़ाज़ियाबाद एलिवेटेड रोड का आज उद्घाटन। अखिलेश जी की प्रगतिशील सोच का परिणाम है, समाजवादी कार्यों की पहचान है, प्रदेश के विकास की ओर उनकी निष्ठा का प्रतीक है, पर भाजपा सरकार के लिए राम राम जपना पराया काम अपना ही उनके कार्यों की पहचान है।’’ इसके अलावा इसमें बताया गया कि यूपी गेट से मेरठ जाने वाले लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here