केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का 59 वर्ष की उम्र में निधन

0
62

नई दिल्ली : केंद्रीय संसदीय कार्यमंत्री और बेंगलुरू साउथ से बीजेपी सांसद अनंत कुमार का देर रात करीब डेढ़ बजे निधन हो गया। वे कैंसर से पीडि़त थे और उन्होंने बेंगलुरू स्थित अपने आवास पर अंतिम सांस ली।

59 वर्षीय कुमार मोदी सरकार में संसदीय कार्यमंत्री थे। वे कर्नाटक के बेंगलुरु साउथ से लगातार छह बार सांसद रहे। उनका इलाज लंदन और न्यूयॉर्क में भी हुआ था। पार्टी के एक प्रवक्ता ने कहा कि अनंत कुमार के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था।

पार्टी के प्रवक्ता एस. शांताराम ने कहा, “कुमार का शहर के दक्षिणी उपनगर स्थित शंकर कैंसर अस्पताल में तड़के तीन बजे निधन हुआ। उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। अमेरिका से 21 अक्टूबर को लौटने के बाद उन्हें यहां भर्ती कराया गया, जिसके तीन सप्ताह बाद उनका यहां निधन हो गया। मंत्री के परिवार में उनकी पत्नी तेजस्विनी और दो बेटियां एश्वर्या और विजेता हैं।

अनंत कुमार 1996 से दक्षिण बेंगलुरू लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। वह कैंसर के इलाज के लिए अगस्त से ब्रिटेन और अमेरिका भी गए थे। उनके शव को अंतिम दर्शन के लिए बेंगलुरु के नेशनल कॉलेज में रखा जाएगा। उनके निधन पर कर्नाटक में तीन दिन का शोक घोषित किया गया है। यहीं नहीं कर्नाटक में आज एक दिन की छुट्टी भी घोषित की गई है।

गृह मंत्रालय ने कहा है कि अनंत कुमार के निधन पर देशभर में आज राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा। शांताराम ने कहा, “कुमार जुलाई-अगस्त में संसद के मानसून सत्र के बाद उपचार के लिए पहले लंदन गए थे, जिसके बाद उन्हें अमेरिका के एक अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया।

कैंसर उनके शरीर के अन्य हिस्सों में फैल गया था, जिसके कारण कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। अनंत कुमार शुरुआत से ही राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस), एबीवीपी से जुड़े रहे। 1996 में बीजेपी ने उन्हें राष्ट्रीय महासचिव बनाया। 1996 में ही वे पहली बार बेंगलुरू साउथ से सांसद चुने गए। अनंत कुमार अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में भी मंत्री रहे थे। उन्हें सिविल एविशन विभाग की जिम्मेदारी मिली थी। बाद में वे टूरिज्म, स्पोट्र्स, कल्चर, शहरी विकास मंत्री भी बने

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here