इकाना का नाम बदलने जाने पर भड़की समाजवादी पार्टी

0
126

लखनऊ । समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चैधरी ने कहा है कि खुद कुछ करना नहीं, दूसरे के किए पर अपना नाम चस्पा कर देना भारतीय जनता पार्टी की राज्य सरकार का ऐसा अजूबा कारनामा है, इतिहास में जिसका दूसरा उदाहरण नहीं मिलेगा।

लखनऊ आज में 06 नवम्बर 2018 को जिस इकाना इंटरनेशनल स्टेडियम में भारत-वेस्टइंडीज टीम के टी-20 मैच के हजारों दर्शक साक्षी है उस अंतर्राष्ट्रीय स्तर के स्टेडियम का निर्माण सभी जानते हैं कि अखिलेश यादव के मुख्यमंत्रित्वकाल में हुआ था। अब भाजपा सरकार ने इस स्टेडियम पर श्रद्धेय अटल बिहारी बाजपेयी जी का नाम चस्पा कर दिया है।

श्री अटल बिहारी बाजपेयी का सभी सम्मान करते हैं भाजपा को उनके प्रति अपनी श्रद्धा प्रदर्शित करनी थी तो अखिलेश का और समाजवादी सरकार का अनुसरण करते हुए जनेश्वर मिश्र पार्क या जेपी इंटरनेशनल सेंटर जैसा भव्य निर्माण कराना था। लेकिन नामकरण के इस प्रकरण से तो भाजपा की हेटी हुई है। भाजपा ने तो काम और नाम के अंतर को मिटाने का यह हास्यास्पद और असम्मानजनक काम किया है। लोकतंत्र में यह परम्परा स्वस्थ नहीं है।

सच तो यह है कि भाजपा के बस में कोई स्तरीय निर्माण या जनहित की किसी योजना की सोच ही नहीं है। भाजपा सरकार अब तक उत्तर प्रदेश में विकास का कोई काम नहीं कर पाई है। समाजवादी सरकार के कामों पर अपना नाम लगाकर ही भाजपा सरकार समझ रही है कि उसके झूठे दावे चल जाएंगे और जनता बहकावे में आ जाएगी।

अखिलेश यादव ने बार-बार यह कहा है कि भाजपाई समाजवादी सरकार के विकासकार्यों के उद्घाटन का उद्घाटन और शिलान्यास का शिलान्यास करने में ही अपना समय बिता रहे हैं। उत्तर प्रदेश और यहां की जनता को देने के लिए भाजपा के पास कुछ भी नहीं है।

ईमानदारी की बात तो यह है कि भाजपा को अखिलेश यादव का एहसानमंद होना चाहिए कि विकास के प्रति दूरदृष्टि दिखाते हुए उन्होंने अपने पांच साल के कार्यकाल में प्रदेश को कई शानदार विकासकार्यों से गौरवान्वित किया है। भाजपा उसी की आड़ में अपनी स्वार्थपरक राजनीति की रोटी सेंक रही है। लेकिन प्रदेश की जनता जानती और मानती है कि काम अखिलेश जी का है तो नाम भी उनका ही चलेगा। भाजपा की छलछद्म की राजनीति अब चलने वाली नहीं है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here