क्या आप जानते है नारियल के ये चमत्कारी फ़ायदे

0
183

नई दिल्ली : नारियल पानी हो या इसका फल सभी इसे बड़े चाव से खाते है। नारियल का तेल तो हम सभी ने बालों में लगाया होगा। लेकिन क्या आप जानते है नारियल के ये गुण और इसके चमत्कारिक फायदे। आज हम आपको इसी के बारे में बताने जा रहे है।

नारियल का फल (गरी) शीतल, वातशोधक, पुष्टिकारक, बलवर्द्धक और वात-पित्त, दाह व रक्तविकार नाशक है। वैज्ञानिकों के अनुसार नारियल सभी पोषक तत्वों से भरपूर है। ताज़ा नारियल कैलोरी से समृद्ध है एवं उसमें सभी आरोग्यदायक तत्व और विटामिन्स होते हैं।

Related image

नारियल पानी है पौष्टिक

कच्चे नारियल का पानी प्राकृतिक रूप से पौष्टिक होता है। इसमें पोटैशियम और क्लोरीन प्राकृतिक रूप में विद्यमान रहता है। सोते समय इस पानी को पीने से क्षुब्ध नाड़ी संस्थान को आराम मिलता है, जिससे अच्छी नींद आती है।

क्षय रोग करे दूर

10 ग्राम कसा हुआ नारियल और लहसुन की पांच कलियां एक साथ पीसकर शहद के साथ सेवन करने से क्षय रोग का निवारण होता है।

चोटों में दे राहत

पुराने नारियल के टुकड़े को बारीक़ कर उसमें एक चौथाई हल्दी मिलाकर पोटली बनाएं और गर्म करके चोटवाले स्थान पर सेंक करें, फिर हल्का गर्म बांध दें। इससे दर्द व सूजन दूर हो जाता है।

Image result for नारियल

त्वचा रोग में कारगर

नारियल के तेल में थोड़ा-सा कपूर मिलाकर लगाने से खाज-खुजली जैसे त्वचा रोगों का निवारण होता है।

मासिक स्राव में कष्ट

मासिक स्राव के समय कष्ट होता हो, तो पकी गरी का एक-दो टुकड़ा खाने से मासिक कष्ट से राहत मिलती है।

अनिद्रा करे दूर

मानसिक तनाव, चिंता, क्रोध, शारीरिक दुर्बलता के कारण अक्सर अनिद्रा की बीमारी हो जाती है। ऐसे में नारियल के डाभ का पानी पीने से अच्छी नींद आती है।

उल्टी आने पर

नारियल की जटा जलाकर राख बना लें। इसे एक चम्मच फांककर ऊपर से पानी पीने से लाभ होता है। यह नुस्ख़ा हैजे के लिए भी कारगर है।

Image result for हृदय रोग

हृदय रोग में फायदेमंद 

ताज़ा नारियल का रस 50 ग्राम लेकर उसमें भुनी हुई हल्दी की गांठ घिसकर मिलाएं। फिर उसमें 20 ग्राम घी मिलाकर नियमित सेवन करने से हृदय रोग का शमन होता है।

वात विकार में दे राहत

नारियल के एक टुकड़े को लेकर उसे कद्दूकस करें, फिर उसमें एक नारियल का पानी और शुद्ध दो भिलावा का चूर्ण मिलाकर उबालें। जब तेल ऊपर आ जाए और गूदा नीचे बैठ जाए तो ऊपर से तेल को निकाल लें। इस तेल को वातरोगी के शरीर पर मलें और नीचे जमे हुए गूदे को रोगी को खिलाएं। 8-10 दिन तक यह प्रयोग करने से हर प्रकार के वात रोग, कमरदर्द, जो़ड़ों का दर्द आदि सब दूर हो जाते हैं।

बच्चों के लिए फायदेमंद

जिन शिशुओं को दूध नहीं पचता, उन्हें दूध के साथ नारियल का पानी मिलाकर पिलाने से दूध आसानी से पच जाता है। शिशु को डीहायड्रेशन में नारियल का पानी व नींबू का रस मिलाकर एक चम्मच की मात्रा में 10-10 मिनट पर पिलाने से लाभ होता है। बच्चे को दस्त, उल्टी और पेट में कीड़े की हालत में नारियल पानी व नींबू रस मिलाकर देने से आराम मिलता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here