टिमरनी विधानसभा मे भाजपा कांग्रेस का कड़ा मुकाबला..

0
177

टिमरनी,26अक्टूबर।भाजपा से गजेन्द्र शाह, संजय शाह,अंजनाशाह वही कांग्रेस से अभिजीत शाह,कमल धुर्वे,रमेश इवने,रमेश मर्सकोले सिराली टिमरनी सिराली विधानसभा सीट हरदा जिले के अंतर्गत आती है यह सीट 2008 मे अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हुई है ।

अभी यह सीट भाजपा के खाते में है यहा भाजपा विधायक संजय शाह है पिछले चुनाव में भाजपा के संजय शाह ने कांग्रेस के रमेश इवने को शिकस्त देते हुए आपने नाम जीत दर्ज कराने मे सफल हुए वर्तमान में देखा जाए तो टिमरनी विधानसभा से संजय शाह के अलावा चार वार से जिला पंचायत सदस्य रहे भाजपा के जिला महामंत्री गजेन्द शाह भी दावेदारी कर रहे हैं वही उनकी पत्नी और तीन वार की जिला पंचायत सदस्य व कृषि विभाग की सभापति श्रीमती अंजना गजेन्द शाह भी दावेदारी कर रही है श्रीमती शाह बर्ष 2008मे भाजपा की प्रत्याशी रह चुकी हैं दोनो पति पत्नी ने भाजपा संगठन को दावेदारी के लिए आवेदन भी दे चुके हैं बर्ष 2008 मे संजय शाह निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीत दर्ज की थी फिर उसके बाद भाजपा मे शामिल होकर बर्ष 2013 मे भाजपा के टिकिट पर चुनाव जीत कर विधानसभा पहुँचे थे मगर दस साल के विधायक कार्यकाल में विधायक संजय शाह भाजपा मे शामिल हो तो गए मगर उन्हें अपना नही पाए वे वर्ष 2008 की निर्दलीय टीम को लेकर चलते हैं जिससे भाजपा मे भी विधायक संजय शाह के खिलाफ कार्यकर्ताओं मे नाराजगी देखी जा रही है जिसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है वही विधायक शाह को पटखनी देने के लिए कांग्रेस से उम्मीदवार वारी कर रहे उन्हीं के भतीजे व कांग्रेस अनुसूचित जनजाति प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष अजय शाह मकडाई के बड़े पुत्र अभिजीत शाह विगत चार पांच सालों से क्षेत्र में सक्रिय रहकर विधायक चाचा की व सरकार की नाकामी को गिनाने मे लगे हुए हैं वे इस सीट के कांग्रेस के प्रवल दावेदार हैं प्राप्त जानकारी के अनुसार भाजपा जिला महामंत्री गजेन्द शाह को टिकिट नही मिला तो वे निर्दलीय के रूप में अपनी किस्मत आजमा सकते हैं क्यो पूर्व मे भी इस सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी जीत चुका है इस लिहाज से टिमरनी विधानसभा चुनाव बडा ही दिलचस्प होगा लेकिन टिमरनी विधानसभा क्षेत्र की जनता असमंजस में है नजर आ रहे हैं अब देखना यह कि एन वक्त पर भाजपा से संजय शाह या गजेन्द शाह का पलडा भारी रहता है तो वही कांग्रेस के अभिजीत शाह या कमल धुर्वे पर पार्टी आपना दाव लगाती है मगर देखा जाए तो भाजपा प्रदेश में चौथी बार सरकार बनाने के लिए कोई रिक्श नही लेना चाहती है वह कई वर्तमान मंत्री व विधायको के टिकिट काटने मे भी संकोच नहीं करेगी इस लिहाज से गजेन्द शाह पर पार्टी दाब लगा सकती हैं वही कांग्रेस सत्ता का वनवाश खत्म करने के लिए जिताऊ उम्मीदवार वार की खोज में लगी हुई है वह किसान कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष अभिजीत शाह पर दाव लगा सकती हैं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here