विश्व चैंपियनशिप : बजरंग पूनिया ने रजत पदक जीत रचा इतिहास

0
37

बुडापेस्ट : एशिया कप में सोने का तमगा जीतने वाले भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया यहां जारी विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में स्वर्ण हासिल करने से चूक गए। उन्हें फाइनल में हार के साथ ही रजत पदक से संतोष करना पड़ा, लेकिन हार के बाद भी बजरंग ने इतिहास रच दिया है। वे इस टूर्नामेंट में दो पदक जीतने वाले पहले भारतीय बन गए हैं।

बजरंग को पुरुषों की फ्रीस्टाइल स्पर्धा के 65 किलोग्राम भारवर्ग के फाइनल में जापान के ताकुतो ओटुगोरो से 9-16 से हार का सामना करना पड़ा। बजरंग अगर जापानी खिलाड़ी को मात देकर स्वर्ण जीतने में सफल होते तो वे इस चैम्पियनशिप में स्वर्ण जीतने वाले भारत के दूसरे पहलवान होते। उनसे पहले सुशील कुमार ने मॉस्को में 2010 में इस चैम्पियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था। बजंरग का यह इस चैंपियनशिप में दूसरा पदक है।
इससे पहले वे 2013 में कांस्य पदक जीतने में सफल रहे थे। फाइनल मैच काफी रोमांचक था। जापानी खिलाड़ी ने बजंरग को बाहर भेज एक अंक लिया और फिर बजरंग को पटक कर चार अंक और जुटाए। बजरंग ने टेकडाउन से दो अंक लेकर अपना खाता खोला और फिर स्कोर 6-7 कर लिया।

दूसरे पीरियड में बजरंग ने वापसी की कोशिश की लेकिन जापानी खिलाड़ी ने तीन अंक लेकर अपनी बढ़त को 9-6 कर लिया। इस बढ़त को जापानी खिलाड़ी ने बजरंग के बेहद आक्रामक होने के बाद भी बचाए रखा।

प्रवीण राणा को 70 किलोग्राम भारवर्ग और मौसम खत्री को 97 किलोग्राम भारवर्ग में हार का सामना करना पड़ा। राणा को प्री-क्वार्टर फाइनल में उज्बेकिस्तान के इख्तिवोर नावरुजोव ने 10-0 से मात दी। राणा ने पहले राउंड में जारविसाडम बेलसाम तारकोंग को 10-0 से हराया था। खत्री को वेनेजुएला के जोस डेनियल डिएस रोबेर्टी ने क्वालीफिकेशन राउंड में ही 12-2 से हराया।

महिलाओं की फ्रीस्टाइल स्पर्धा में सीमा को 55 किलोग्राम वर्ग में दूसरे राउंड में मंगोलिया की दावाचिमेग इरखेमबायर ने 10-0 से हराया। सरिता ने 59 किलोग्राम भारवर्ग में पहले राउंड में कोरिया की बोबए किम को 8-1 से हराया और फिर अगले राउंड में यूक्रेन की सोफिया बोडनार को 4-0 से मात दी, लेकिन क्वार्टर फाइनल में वह मंगोलिया की शूवडोर बाटारजे से 10-0 से हार गईं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here