Ind vs Wi : पहले वनडे में यह हो सकता है प्लेइंग इलेवन, पंत करेंगे डेब्यू

0
50

हिटी : टेस्ट सीरीज में वेस्टइंडीज को हराने के बाद अब टीम इंडिया वन डे सीरीज में भी टेस्ट सीरीज के अपने जादू को बरकरार रखने के मनसूबे से उतरेगी। साथ ही एशिया कप में बाहर रहने के बाद अब इस वन डे सीरीज में विराट कोहली भी वापसी कर रहे हैं।

ऐसा माना जा रहा है कि कप्तान कोहली को आराम देकर टीम अगले साल होने वाले वर्ल्ड कप के लिए एक और ओपनिंग जोड़ी की तलाश कर रही थी। आज होने वाले वन डे में प्लेइंग इलेवन इन 11 को शामिल किया जा सकता है। आइए इन पर एक नजर डालते हैं।

रोहित शर्मा ने दुबई में कप्तान के तौर पर अच्छा प्रदर्शन किया। वहीं बल्लेबाल के तौर पर भी रोहित ने उम्दा पारियां खेली। रोहित वन डे फॉर्मेट के लिए बेहतर बल्लेबाज माने जाते हैं और इस सीरीज में भी उनके अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है।

शिखर धवन को टेस्ट सीरीज के लिए जरूर टीम से बाहर बिठाया गया हो लेकिन वे वन डे टीम का हिस्सा होंगे। साथ ही घवन का नीली जर्सी में प्रदर्शन अच्छा रहा है। इसके अलावा भारत के टॉप बैंटिग ऑर्डर में फिट के लिहाज से वे एक मजबूत बल्लेबाज हैं।

एशिया कप में आराम देने के बाद टीम वन डे सीरीज में विराट कोहली के साथ ही मैदान पर उतरेगी। साथ ही कोहली से उम्मीद है कि वे अपना स्वाभिक खेल खेलेंगे और इस सीरीज में लम्बी पारियां खेलते हुए रनों की बरसात करेंगे। टेस्ट सीरीज में भी उनका प्रदर्शन अच्छा रहा है। एशिया कप में कोहली के टीम में न रहते हुए रायडू तीसरे स्थान पर बल्लेबाजी करते दिखाई दिए थे। लेकिन कोहली की वापसी के बाद अब उन्हें चौथे स्थान पर बल्लेबाजी करनी पड़ सकती है।

अगर रायडू मौके का फायदा उठाते हुए इस स्थान पर रन बनाते है तो उनकी यह जगह टीम में पक्की हो सकती है। क्या एमएस धौनी अपना पुराना आक्रमक खेल दिखाएंगे? क्या धौनी को वन डे में खेलना चाहिए? धौनी टीम में कौन सी जिम्मेदारी निभाएंगे? धौनी का नाम आते ही सबसे पहले यही सवाल सामने आते हैं।

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान को आज भी टीम का ‘थींक टैंक’ माना जाता है। साथ ही विराट कोहली हो या रोहित शर्मा दोनों के फैसलों में धौनी का प्रभाव देखा जाता है। लेकिन इसके अलावा धौनी को बल्ले से भी कमाल दिखाने की जरुरत है। चीफ सेलेक्टर एम एस के प्रसाद ने टीम की घोषणा के समय कहा कि पंत का चयन एक बल्लेबाज के तौर पर टीम में किया गया है।

लेकिन जरुरत पड़ने पर वे विकेट कीपिंग भी कर सकते हैं। टेस्ट क्रिकेट में अपनी शानदार बल्लेबाजी से सबका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने वाले पंत के पास अब मौका है कि वन डे में भी अपना कमाल दिखाएं। टीम में उनका इस्तेमाल फिनिशर के तौर पर किया जा सकता है। एशिया कप में चोटिल होने के बाद जडेजा के बाद उन्होंने शानदार वापसी की है।

वापसी के बाद अपने पहले ही मैच में 4 विकेट लेने के साथ ही बल्ले से भी जौहर दिखाया था। किसी भी टीम के लिए ऑलराउंडर हमेशा ही अच्छा साबित होता है। टेस्ट सीरीज में उनकी अच्छी फॉर्म टीम इंडिया के लिए अच्छी खबर है। शार्दुल ठाकूर के चोटिल होने के बाद उमेश यादव के पास अच्छा मौका है कि वे अपनी जगह टीम में बना पाएं। हैदराबाद टेस्ट में 10 विकेट लेने के बाद वे आत्मविश्वास से भरे हुए होंगे।

कुलदीप यादव का इस्तेमाल कोहली लिमिटेड ओवर मैच में बखूबी करते हैं। वहीं वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों के सामने जो कुलदीप की गेंदबाजी को समक्षने में असफल रहे है। ऐसे में कुलदीप के पास सफेद बॉल से एक और मौका होगा। चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने टीम के एलान के दौरान कहा कि शमी के चयन के पीछे का अहम कारण हो कि हम तीसरे पेसर की तलाश कर रहे हैं। वहीं इंग्लैंड में चौथे।

जैसा कि मैनेजमेंट वर्ल्ड कप से पहले नए विकल्पों की तलाश कर रहा है। तो ऐसे में शमी के पास मौका है कि सफेद गेंद से अच्छा प्रदर्शन कर अपनी जगह पक्की कर सकते हैं। कुलदीप यादव की ही तरह कोहली बीच के ओवरों में रनों की गति को रोकने के लिए चहल का इस्तेमाल कर सकते हैं। साथ ही चहल कम रन देने के साथ विकेट भी निकालने में सक्षम हैं।

प्लेइंग इलेवन : …!!

रोहित शर्मा, शिखर धवन, विराट कोहली (c), अंबाती रायडू, एमएस धौनी, ऋषभ पंत, रविंद्र जडेजा, उमेश यादव, कुलदीप यादव, मोहम्मद शमी, युजवेंद्र चहल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here