गड़करी जी, जनता को सही सही बताने के लिये शुक्रिया, तीर ऐसा लगा दर्द ऐसा जगा…

0
43

Editorial: देश की जनता मोदी सरकार के एक मंत्री नीतिन गडकरीजी का विडियो बडे चाव से देख रही है। जिस में गडकरीजी हसते हसते कह रहे है कि हमने यानि भाजपाने 2014 में चुनाव जीतने के लिये बडे बडे और खोटे खोटे वायदे किये जो कभी पूरे नहीं हो शक्ते।

पार्टी को लगा की वैसे तो चुनाव जीत नहीं शक्ते इसलिये तय ये किया गया की लोगों को बडे बडे सपने दिखायो ताकी लोग भाजपा को वोट दे। गडकरीने कहां की भाजपा तो जीत गइ लेकिन वायदे तो पूरे हो शके ऐसे तो थे नहीं इसलिये अब लोग हमारे वो वायदों की विडियो बगैरा।

दिखा कर हम से पूछ रहे है लेकिन हम क्या करे, हंस कर आगे निकल जाते है…गडकरी कोई छोटे नेता नहीं। उन्होने एक मराठी टीवी के साथ नाना पाटेकर के साथ साझा कार्यक्रम में यह खुलासा किया। लोग हैरान है। ये क्या भद्दा और गंदा मजाक है लोगो के साथ… लोगो के विश्वास का कैसा गलत उपयोग किया भाजपा और नरेन्द्र मोदीने।

गडकरीजीने कहते ते कह दिया लेकिन जब ये विडियो वायरल हुवा विपक्षने उसे उछाला तब जा कर गडकरीजी को लगा की अररर… ये क्या बोल दिया उन्होंने। अब वे खुलासा करते फिर रहे है की नहीं मैने मोदीजी के बारे मैं एसा नहीं कहा। अब वें लाख खुलासा करे तो भी क्या। तीर निकल चुका। लोगो के दिलों में एसा लगा की कई लोग तो वह गीत भी गुनगुनाने रहे है-चोट दिल पे जो खाइ मजा आ गया…तीर एसा लगा दर्द एसा जगा की बस मजा आ गया….कहते है ने बूंद से जो गई वो हौज से नहीं आती।

गडकरीजी को लगा की चलो लोगो के साथ जरा मजाक किया जाय और कह दिया की हमने तो वायदे पूरे न हो ऐसे वायदे किये थे। प्रतिपक्ष ईसे लेकर मोदी सरकार पर हल्ला कर रही है। गडकरीजी के सच कहने से लोग आहत है। उन्हैं अब लग रहा है की सभी के खाते में 15 लाख का मोदी का वायदा भी ऐसा ही एक भद्दा मजाक था। जिसे बाद में अमित शाहजीने जुमला करार कर दिया था।

भाजपा के कुछ लोगो को गडकरीजी में कोंग्रेस का रूप दिखाई दे तो कसूर उनका नहीं. क्यों की मंत्रीजीने भाजपा सरकार की पोल खोल दी है. क्या गडकरीजी मोदीजी से कही नाराज तो नहीं चल रहै एसा सवाल भी हो शक्ता है. क्या गडकरीजी ने मोदी सरकार के खिलाफ कोइ अन्दरूनी मोरचा तो नहीं खोल रखा है. जो भी हो. मतदाता और लोगो के साथ कितना बडा खिलवाड किया गया. कैसे लोगो को बेवकूफ बनाया गया वह सरकार के ही एक मंत्रीने बोल दिया. जनता अब जागे.

और जो कोई भी दल बडें बडें वायदे करे तो चौंकने हो जाय. पांच राज्यो के चुनाव में ईसका क्या प्रभाव होगा ये तो परिणाम ही बतायेंगे. ईस वक्त तो गडकरीजी भाजपा के बीभीषण हो गये, कहते है न घर का भेदी लंका ढाये..गडकरीजीने भाजपा के 2014 के अब तक के बंद पत्ते खोल दिये. गडकरीजी देश आपका शुक्रगुजार है जो आपने बताया की भाजपाने चुनाव जीतने के लिये कैसे मतदाताओं के साथ विश्वासघात किया. तीर एसा लगा…दर्द एसा जगा की देखते देखते मजा आ गया…!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here